Popular : 90’s के बच्चों के 11 फेवरेट प्रोग्रेम्स..!

आज का समय जब बच्चे सिर्फ मोबाइल, लैपटॉप या टैब में लगे रहते हैं. इन्टरनेट में ही उनकी दुनिया सिमट कर रह गयी है. वहीं 90 के दशक में बच्चों के पास कई आउटडोर और इनडोर गेम्स हुआ करते थे. इसके अलावा वे टी.वी. में अपने कुछ फेवरेट प्रोग्रेम्स भी बड़ी दिलचस्पी के साथ देखते थे. कुछ कार्टून्स भी उनके फेवरेट थे जिसकी नकल वे अक्सर किया करते थे. सच में उस समय का बचपन कुछ खास ही हुआ करता था.

खैर चलिए आज हम आपको बचपन की उसी दुनिया में ले चलते हैं और रूबरु कराते हैं 90 के दशक के कुछ फेमस प्रोग्रेम और कार्टून्स से……

1. शक्तिमान :

1
शक्तिमान.

मुकेश खन्ना का शक्तिमान 13 सितम्बर साल 1997 में शुरु हुआ. रविवार वाले दिन सुबह 12 बजे जब शक्तिमान शुरु होता था तो सभी बच्चे और कुछ बड़े ब्लैक एंड व्हाइट टी.वी के सामने बैठ जाते थे. इस सीरियल की खास बात यह थी कि इसके अंत में बच्चों को सीखने की कुछ बातें शक्तिमान खुद बताता था. बहुत सी लोकप्रियता हासिल करने के बाद साल 2005 में इसका प्रसारण बंद हो गया.

2. शाका-लाका बुम-बुम :

2
शाका-लाका बुम-बुम.

साल 1996 में दूरदर्शन नेशनल पर ही शक्तिमान के ठीक पहले शाका-लाका बुम-बुम आता था लेकिन इसे 1999 में बंद कर दिया गया जो बाद साल 2000 में स्टार प्लस पर नये कलाकारों के साथ आने लगा. इसमें लीड रोल संजू (किंसुक वैध) का था जिसे एक जादुई पेंसिल मिलती है और वो सबकी भलाई का काम करने लगता है और शैतानों से उस पेंसिल का गलत यूज ना हो इसलिए बचाता भी है. और उसका साथ देते हैं उसके दोस्त. ये साल 2004 में आना बंद हो गया था.

3. सोनपरी :

3
सोनपरी.

साल 2000 में ही सोनपरी स्टार प्लस पर आने वाला ऐसा सीरियल था जो बच्चों को बहुत प्रिय हुआ करता था. इसकी लोकप्रियता को देखते हुए इसे कई भाषाओं में अनुवाद किया गया था. साल 2004 के बाद यह स्टार उत्सव पर भी प्रसारित किया गया. यह कहानी फ्रूटी नाम की एक लड़की की थी जिसकी माँ मर चुकी होती है और फ्रूटी अपनी जिन्दगी में बहुत उदास रहती है. इसी उदासी भरे माहौल में सोनपरी उसकी दोस्त बन जाती है और फ्रूटी के जीवन में खुशियाँ लौट आती हैं. फिर उसके जीवन में रहस्य और रोमांच का एक नया अध्याय आरम्भ होता है.

4. चन्द्रकांता :

4
चन्द्रकांता.

देवकी नंदन की किताब चंद्रकांता पर आधारित सीरियल चंद्रकांता साल 1994 में शुरू हुआ था और इसे खूब पसंद किया गया. लेकिन विवदों के कारण इसे साल 1996 में इसे बंद कर दिया गया था. बाद में ये शो स्टार प्लस और सोनी टीवी एंटरटेनमेंट चैनल पर भी चला. चंद्रकांता का किरदार शिखा स्वरूप ने निभाया था.

5. राजा रैंचो :

5
राजा रैंचो.

साल 1998 में जासूसी पर आधारित सीरियल राजा रैंचो में राजा का किरदार वेद थापड़ ने निभाया था जो एक डिडेक्टिव होते हैं और उनका साथ देता था उनका रैंचो जो एक बंदर था लेकिन इंसान से कहीं ज्यादा तेज दिमाग रखता था. ये साल 2000 में बंद हो गया.

6. पॉपाय, दि सेलरमैन :

6
पॉपाय, दि सेलरमैन.

90 के दशक में सबसे फेमस कार्टून Popeye : the sailor man कार्टून बहुत प्रसिद्ध रहा है. जिसमें पॉपाय नाम का एक सेलर अच्छे-अच्छे काम करता था. इस कार्टून की खास बात ये थी कि वह पालक खाकर अपनी प्रेमिका और सबकी मदद करता था. इसमें मुख्य कार्टून कैरेक्टर पॉपाय उसकी प्रेमिका ऑलिअव और एक गुंडा ब्लूडो का था.

7. टिमोन और पुम्बा :

7
टिमोन और पुम्बा.

90 के दशक के ये दो लोकप्रिय कार्टून कैरेक्टर चर्चित फिल्म द लायन किंग से निकले हैं. टिमोन और पुम्बा जंगल को छोड़ कर शहर के लिए निकल पड़ते हैं. इसके बाद उन्हें किन-किन घटनाओं से दो चार होना पड़ता है, वही कार्टून में दिखाया गया है.

8. स्कूबी डू :

8
स्कूबी डू.

ऐसे कई बच्चे होंगे जो अपने पपी का नाम स्कूबी डू रखना चाहते होंगे, जो कि 90 के दशक का एक चर्चित कार्टून कैरेक्टर है. कार्टून में दोस्तों के एक समूह को दिखाया गया है जो अपने कुत्ते स्कूबी के साथ रहस्यों को सुलझाते हैं.

9. टॉम एंड जेरी :

9
टॉम एंड जेरी.

बहुत ही कम लोग होंगे जो टॉम नामक बिल्ली और जेरी नामक चूहे की दोस्ती से प्रभावित न हो. 90 के दशक के इस लोकप्रिय कार्टून कैरेक्टर को बाद में फिर से तैयार किया गया. और आज भी इस कार्टून को बच्चे-बड़े सभी बहुत दिलचस्पी के साथ देखते हैं.

10. जॉनी ब्रावो :

10
जॉनी ब्रावो.

90 के दशक का यह सबसे लोकप्रिय कार्टून्स में से एक कैरेक्टर है. यह कार्टून जॉनी ब्रावो नामक व्यक्ति की कहानी है, जिनकी हेयर स्टाइल बेहद फनी और लोकप्रिय होती है. वह कोशिश करता है कि महिलाएं उनके प्यार में गिरें पर अंत में बार-बार वह बुरी तरह से असफल हो जाता है.

11. दि पॉवरपफ गर्ल्स :

11
दि पॉवरपफ गर्ल्स.

90 के दशक के इस चर्चित कार्टून में तीन छोटी लड़कियों को दिखाया गया है जो अपराध के खिलाफ लड़ती हैं और अपने शहर में शांति बनाए रखती हैं. ये लड़कियां साधारण लड़कियां नहीं बल्कि एक वैज्ञानिक द्वारा रसायनिक प्रयोग के दौरान इनका निर्माण हुआ था.

Loading...

Comments

Comments

comments