डरावने सपने क्यों आते हैं ?

सपने सभी को दिखाई देते हैं. उनमें से कुछ सपने अच्छे यानी खुशी देने वाले होते हैं, जबकि कुछ डरा देते हैं. कई लोगों को लगातार बूरे सपने आते रहते है, जिसकी वजह से वे डरे-डरे रहने लगते हैं. इन बुरे या डरावने सपनों से बचने के लिए अग्निपुराण में कुछ आसान उपाय बताए गए हैं. इस उपायों को अपना कर हम बुरे सपनों से छुटकारा पा सकते हैं.

1. बुरा या डरावना सपना आने पर समान्यतः नींद उड़ जाती है. वह आधी रात में ही नींद से जाग कर सपने में हुई घटना के बारे में सोचता रहता है. अग्निपुराण के अनुसार, ऐसा सपना देखने की वजह से नींद खुल जाए तो उसे फिर से तुरंत सो जाना चाहिए. ऐसी करने से वह स्वप्न दिमाग से निकल जाता है. सुबह उठने पर आधी रात के सपने याद नहीं रहते और शांत मन के साथ अपने दिन की शुरुआत कर सकते हैं.

2. दूसरों को न बताएं : लगभग सभी की आदत होती है कि हम अपने से जुड़ी हर बात, हर घटना किसी न किसी से व्यक्त जरूर करते हैं, लेकिन शास्त्रों के अनुसार कुछ बातों को गुप्त रखना ही अच्छा माना जाता है. बुरे सपने को उसी समय भूल जाना चाहिए, उसे किसी के भी सामने व्यक्त नहीं करना चाहिए. ऐसे करने से मनुष्य बार-बार उसी बात के बारें में सोचता रहता है. सपने में हुई घटना उसके दिमाग से निकल नहीं पाती और मनुष्य बार-बार उस सपने को याद करके डरता रहता है. ऐसी परिस्थितियों से बचने के लिए अपने बुरे सपने की बात किसी से भी नहीं करना चाहिए.

3. स्नान करें : शास्त्रों में सुबह उठ कर सबसे पहले स्नान करने का महत्व बताया गया है. स्नान करने से मनुष्य शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से शुद्ध होता है. बुरे सपनों के निवारण के लिए मनुष्य को मानसिक रूप से शुद्ध होना बहुत जरूरी होता है. केवल स्नान मात्र से भी बुरे सपनों को रोका जा सकता है. जिस मनुष्य को अक्सर बुरे सपने आते हो, उसे रोज सुबह उठते ही और रात को सोने से पहले स्नान जरूर करना चाहिए.

4. ब्राह्मणों की पूजा : ब्राह्मण भगवान ब्रह्मा के मुख से उत्पन्न हुए हैं. पुराणों में ब्राह्मणों को सबसे ऊंचा स्थान दिया गया है. ब्राह्मणों को पूजा करने के योग्य माना जाता है. कहा जाता है कि मनुष्य को अच्छे या बुरे सपने उसके कर्मों के अनुसार आते हैं. ब्राह्मणों की पूजा करने से मनुष्य को अपने कर्मों से मुक्ति मिलती है और उसके स्वप्न दोष का भी नाश होता है. योग्य ब्राह्मण की पूजा करने और उसे दान देने से बुरे सपनों की समस्या से बचा जा सकता है.

5. तिल से हवन करें : कई बार सपनों का कारण घर के आस-पास रहने वाली नकारात्मक ऊर्जा भी होती है. घर की सुख-शांति के लिए नकारात्मक ऊजाओं को घर से दूर रखना बहुत जरुरी होता है. तिल का हवन करने के यह काम किया जा सकता है. हवन से घुएं से वातावरण शुद्ध होता है. कहा जाता है जिस घर में नियमित हवन किया जाता है, वहां देवताओं का वास होता है. नियमित रूप से तिल का हवन करने पर बुरे सपनों से बच सकते हैं.

6. भगवान ब्रह्मा, विष्णु और शिव की पूजा : भगवान ब्रह्मा, विष्णु और शिव को त्रिदेव कहा जाता है. पूरे संसार की निर्माण, संचालन और विनाश इन्हीं से माना जाता है. मनुष्य अपने जीवन के किसी भी दोष का समस्या का निवारण इनकी पूजा-अर्चना करके पा करता है. जिस घर में रोज त्रिदेवों की पूजा की जाती है, वहां सभी देवताओं का वास होता है. नकारात्मक शक्तियां या दोष वहां टिक नहीं पाते. इसलिए सपनों से बचने के लिए मनुष्य को त्रिदेवों को अपने घर में स्थापित कर उनकी पूजा करनी चाहिए.

7. महामत्युंजय का पाठ करें : भगवान शिव को कालों का काल कहा जाता है. भगवान शिव की कृपा से मनुष्य को अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता और उसके स्वप्न दोषों का भी नाश होता है. महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का प्रभावशाली मंत्र है. इसके प्रभाव और शक्तियों का वर्णन कई पुराणों में मिलता है. इस मंत्र के जप से मनुष्य की सभी बाधाएं और परेशानियां खत्म हो जाती हैं. रोज भगवान शिव की पूजा और महामत्युंजय पाठ का जाप करने से मनुष्य के डरावने सपनों की समस्या का निवारण हो जाता है.

8. सूर्य को जल चढ़ाएं : सूर्य देव को जल चढ़ाना हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना गया है. सूर्य देव को जल चढ़ाने से भी स्वप्न दोष से मुक्ति पाई जा सकती है. सूर्य को जल चढ़ाने पर जल की जो बूंदे मनुष्य के शरीर को स्पर्श करती है, वह मनुष्य के तन और मन की शुद्धि करती हैं. रोज सूर्य को जल चढ़ाने से मनुष्य का मन और विचार शुद्ध रहते हैं और उसे बुरे सपने नहीं आते.

Loading...

Comments

comments