क्यों नहीं लेनी चाहिए किन्नरों की बद्दुआ ? Imprecate of eunuchs?

जब भी आपके घर में कोई खुशी का मौका होता है तो औरतों जैसे दिखने वाले कुछ लोग तालियां बजाते हुए आते हैं और आप उन्हें पहचाने लेते हैं कि ये किन्नर हैं. हम इन्हें किन्नर, हिजड़ा और न जाने कितने नामों से जानते हैं. आपने देखा होगा कि ये अापके शुभ कामों में आपसे पैसे मांगते हैं और इनका ज्यादा विरोध नहीं करते और निकाल कर देते हैं. बहुत से लोगों का मानना है कि किन्नरों की बददुआ नहीं लेनी चाहिए, पर क्यों नहीं लेनी चाहिए ये शायद ही आपको पता होगा. इसके बारे में शायद ही किसी को पता होगा. इस समय हमारे देश में लगभग 5 लाख किन्नर हैं. आज हम आपको बता रहे हैं किन्नरों से जुड़ी कुछ रोचक बातें, जिन्हें आप हमेशा से जानना चाहते थे….

1. ऐसा माना जाता है कि ब्रम्हा जी की छाया से किन्नरों की उत्पत्ति हुई है. ज्योतिष के अनुसार ऐसा माना जाता है कि वीर्य की अधिकता से बेटा होता है और रज यानि रक्त की अधिकता से बेटी. लेकिन अगर रक्त और वीर्य दोनो बराबर रहें तो किन्नर पैदा होता है.

Image: jhansitimes.com

2. महाभारत में अज्ञातवास के दौरान, अर्जुन ने विहन्ला नाम के हिजड़े का रूप धारण किया था, उन्होंने उत्तरा को नृत्य और गायन की शिक्षा भी दी थी.

3. किन्नर समुदाय खुद को मंगलमुखी मानते हैं, इसलिए ही ये लोग बस शादी, जन्म समारोह जैसे मांगलिक कामों में ही भाग लेते हैं. मरने के बाद भी ये लोग मातम नहीं मनाते, बल्कि खुश होते हैं कि इस जन्म से पीछा छूटा.

4. किन्नर की दुआएं किसी भी व्यक्ति के बुरे समय को दूर कर सकती हैं, माना जाता है कि इन्हें भगवान श्रीराम से वनवास के बाद वरदान प्राप्त है. कहा जाता है कि इनसे एक सिक्का लेकर पर्स में रखने से धन की कमी नहीं होती है.

5. अगर किसी के घर बच्चा पैदा होता है और उसके जननांग में कमजोरी पाई जाती है तो उसे किन्नरों के हवाले कर दिया जाता है.

Image: spiderimg.amarujala.com

6. आपको बता दें कि यह किन्नरों का समाज ऐसे लड़कों की तलाश में रहता है जो दिखने में खूबसूरत हो, जिनकी चाल-ढाल लड़कियों की तरह हो और पैसा कमाने का ख्वाब देखता हो. यह समुदाय उससे नजदीकी बढ़ाता है और फिर समय आते ही उसे बधिया कर दिया जाता है. बधिया करने का मतलब यह है कि उसके शरीर के उस हिस्से को काट दिया जाता है जिसके बाद वह कभी लड़का नहीं रहता.

7. शायद आपको पता न हो कि किन्नर भी विवाह करते हैं. ये अपने आराध्य देव अरावन से विवाह करते हैं, लेकिन यह विवाह सिर्फ एक दिन के लिए होता है क्योंकि अगले ही दिन अरावन देवता की मौत हो जाती है और इनका वैवाहिक जीवन खत्म हो जाता है.

8. 2014 से पहले इन्हें समाज में नहीं गिना जाता था. अभी भी इनके साथ हुए बलात्कार को बलात्कार नहीं माना जाता है.

Image: haryanaabtak.com

9. आपने सुना होगा कि किन्नरों की बददुआ नहीं लेनी चाहिए, लेकिन यह नहीं जानते होंगे क्यों? हम आपको बताते हैं कि किन्नरों की बददुआ इसलिए नहीं लेनी चाहिए क्योंकि बचपन से लेकर बड़े होने तक ये दुखी रहते हैं, ऐसे में दुखी दिल की दुआ और बददुआ लगना स्वाभाविक है.

10. शायद आपको पता नहीं होगा कि समुदाय में किसी की मौत होने पर पूरा हिजड़ा समाज एक सप्ताह तक भूखा रहता है.

11. किन्नरों के बारे में अगर सबसे गुप्त कुछ रखा गया है तो वह है इनका अंतिम संस्कार. जब किसी किन्नर की मौत होती है तो कोई आम आदमी इनकी शव यात्रा को नहीं देख सकता. ऐसा मानना है कि अगर कोई इनकी शव यात्रा को देख ले तो फिर से इनका जन्म एक किन्नर के रूप में होता है. इनकी शव यात्राएं रात में निकाली जाती हैं. शव यात्रा निकालने से पहले इनके शव को जूते और चप्पलों से पीटा जाता है. इनके शव को जलाया नहीं जाता, बल्कि दफनाया जाता है.

Loading...

Comments

comments