क्या आपको पता है तीन बार बिक चुका है ताजमहल?


आपने प्यार की निशानी ताजमहल को तो देखा ही होगा और इसके पीछे की कहानी के बारे में भी जानते होंगे. आपको यह पता होगा कि शाहजहां ने इसे अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था. लोग इस अजूबे को देखने के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी यहां आते हैं. लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं ताजमहल के बारे में एक ऐसी बात जिसे जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे. अगर हम आपसे कहें कि आगरा का ताजमहल तीन बार बिक चुका है तो शायद ही आपको यकीन होगा.

ताजमहल

जी हां आगरा का ताजमहल तीन बार बेचा जा चुका है और ये कारनामा किया था पटना, बिहार के एक नटवरलाल ने. उसने ताजमहल को तीन बार और लाल किले को दो बार बेच दिया था. इस नटवरलाल का असली नाम मिथलेश कुमार श्रीवास्तव था, जो ठगी की दुनिया का किंग माना जाता था.

नटवरलाल- मिथलेश कुमार श्रीवास्तव

इसके खिलाफ ठगी के 100 से अधिक मामले दर्ज थे और आठ राज्यों की पुलिस इसके पीछे लगी थी. अलग-अलग मामलों में उसे 100 साल से अधिक की सजा हुई थी. भारत के सबसे बड़े ठग के रूप में चर्चित नटवरलाल को आखिरी बार 1996 में नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर देखा गया था, तब वह तीन पुलिस वालों को चकमा देकर भागने में सफल हो गया था.

Loading...


Comments

comments