समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने वाला नेपाल एशिया का पहला देश..!

भारत में समलैंगिक विवाह को भले ही कानूनी रूप से स्वीकार नहीं किया गया हो लेकिन उसके पडोसी देश नेपाल में सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर साल 2008 में समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता दे दी है. कभी न गुलाम होने वाला नेपाल देश अब एशिया का पहला देश बन गया है जिसने समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता दी है.

नेपाल की पहली समलैंगिक शादी.

समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता दिलाने के पीछे सुनील बाबू पंता का अहम योगदान है. संविधान नेपाल सभा में एक मात्र सांसद हैं जो समलैंगिक विवाह के हक में अपनी आवाज बुलंद करते आये हैं और वह गे समुदाय का प्रतिनिधित्व बड़ी दिलेरी से करते हैं क्योंकि नेपाल की सुप्रीम कोर्ट मानती है कि लिंग के कारण भेदभाव करना गलत है पर नेपाल के आम लोग ऐसा नहीं मानते हैं.

2
संविधान नेपाल सभा में एक मात्र सांसद हैं सनील बाबू पंता.

नेपाल के आम लोग इस नई सोच के साथ अपनी खास सोच नहीं बैठा पा रहे हैं. आम नागरिकों के हिसाब से समलैंगिक विवाह अश्लीलता और बेशर्मी से भरा हुआ फैसला मानते हैं और उनके अनुसार कुदरती, धर्म और समाज में इस घटिया विवाह के लिए कोई जगह नही है. और समाज की इस सोच को किसी भी देश में बदला नहीं जा सकता.

Loading...

Comments

comments