Home Health Research: अगर आप भी हैं Video Games के दीवाने तो हो जाइए...

Research: अगर आप भी हैं Video Games के दीवाने तो हो जाइए सावधान

SHARE

कई लोगों का मानना है कि Video Games खेलने से मानसिक तनाव कम होता है. यह Tension को दूर करने का एक अच्छा तरीका है. इसी के साथ ही ये हमारे Reflex Action को बेहतर करता है. लेकिन अगर आप भी Video Games के दीवाने हैं तो आपको बता दें कि एक नई Research से ये बात सामने आई है कि जो ज्यादा Video Games खेलते हैं, उनमें, स्किजोफ्रेनिया, PTSD और अल्जाइमर जैसे रोगों का खतरा बढ़ जाता है. अगर आप Action Games के ज्यादा शौकीन हैं तो इनसे आपको बीमारियों का खतरा हो सकता है.

क्या कहती है Research

Video Games
Image: Indian Express

Universite de Montreal विश्वविद्यालय में Researcher Greg West ने अपनी Research में पाया है कि जो लोग Action Games ज्यादा खेलते हैं, उनके दिमाग के एक मुख्य हिस्से ‘Hippocampus’ में Gray Matter कम हो जाता है. आपको बता दें कि Hippocampus में जितना Gray Matter कम होता है, उतना ही डिप्रेशन और इन दीमागी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है. वैसे तो Video Games के कई फायदे बताए जाते हैं, जैसे कि जिन लोगों को Visual Attention या भूलने की बीमारी होती है उनके लिए Video Game काफी फायदेमंद होता है.

इस Research के दौरान जब Greg ने कई Gamers और Non-Gamers के दिमाग की Scanning की तो पाया कि Gray Matter की मात्रा Gamers के मुकाबले Non-Gamers में ज्यादा होती है. आपको बता दें कि Hippocampus का आकार Sea Horse जैसा होता है और ये व्यक्ति को ख़ुद की पहचान करने में और अपने पहले के Experience को याद करने में करता है. Hippocampus में जितना ज्यादा Gray Matter होगा, उतना ज्यादा दिमाग स्वस्थ होगा.

Video Games
Image: University of Rochester

Video Games से होती हैं ये बीमारियां

इसके अलावा दिमाग का एक दूसरा जरूरी भाग होता है ‘Striatum’. Striatum का Caudate Nucleus इंसान को Relax करने में मदद करता है. ये उन चीजों पर ध्यान देता है, जो काम के अलावा इंसान के खुश रखने के लिए जरूरी हैं. जैसे खाना, पीना, सेक्स आदि.

Video Games
Image: Taringa.net

Video Game खेलते समया 85 % Gamers, Navigation के लिए Caudate Nucleus पर Depend करता है. इसका असर ये होता है कि Caudate Nucleus ज्यादा काम करता है और Hippocampus कम. अंत में Hippocampus, Cells और Atrophie खो देता है. जो लोग Dementia, स्किजोफ्रेनिया, PTSD, डिप्रेशन और अल्जाइमर जैसे रोगों से ग्रसित होते हैं, उनमें ग्रे मैटर कम होता है और उन्हें वीडियो गेम नहीं खेलना चाहिए.

यह भी पढ़ें : BMW ने इंडिया में लॉन्च की 320 D एडिशन स्पोर्ट कार

Facebook Comments