अटल बिहारी वाजपेयी

जब पेट्रोल की कीमतें बढ़ने पर बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे अटल बिहारी वाजपेयी

Explainer

शायद ही आपको पता हो कि पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़ने पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे. 45 साल पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसी मुद्दे पर इंदिरा गांधी की सरकार के ख़िलाफ़ हल्ला बोला था. वाजपेयी पेट्रोल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी के खिलाफ प्रदर्शन में बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे और अपना विरोध दर्ज किया था.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने छापी थी ख़बर

अमेरिका के अंग्रेजी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के 12 नंवबर, 1973 को प्रकाशित अंक के मुताबिक तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को संसद में विरोधी दलों के गुस्से का सामना करना पड़ा था.

इस दिन संसद में छह सप्ताह तक चलने वाले शीतकालीन सत्र की शुरुआत हुई थी.
दक्षिण और वामपंथी पार्टियों ने बढ़ी हुई कीमतों को रोकने में असर्मथता का आरोप लगाते हुए सरकार से इस्तीफ़े की मांग की थी.

उस समय जन संघ हुआ करता था जिसके नेता अटल बिहारी वाजपेयी थे. उनके साथ दो अन्य सदस्य भी बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे. कुछ सदस्य साइकिल से भी आये थे.

बग्घी से यात्रा कर रही थीं इंदिरा

वे देश में पेट्रोल और डीजल की कमी में इंदिरा गांधी का बग्घी से यात्रा करने का विरोध कर रहे थे. इंदिरा गांधी इन दिनों लोगों के बीच पेट्रोल बचाने का संदेश देने के लिए बग्घी से यात्रा कर रही थीं.

क्यों बढ़ा था दाम

तेल का उत्पादन करने वाले मध्यपूर्व देशों ने भारत को निर्यात होने वाले पेट्रोलियम पदार्थों में कटौती कर दी थी. जिसके बाद इंदिरा गांधी की सरकार ने तेल की कीमतों में 80 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी कर दी थी.

1973 में तेल संकट तब आया था जब तेल निर्यात करने वाले देशों के संगठन यानी ओपेक ने दुनिया भर में तेल आपूर्ति में कटौती कर दी थी.