Storm

तूफानों के नाम कैसे रखे जाते हैं, WMO की इसमें क्या भूमिका है

Explainer

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) ने तूफ़ान का नाम रखने के लिए एक प्रणाली बनाई है जिसके तहत अलगअलग देश अपनी ओर से नाम सुझाते हैंतूफ़ानों के नाम देशों की ओर से सुझाए गए नामों की सूची में से ही रखे जाते है. साल 1953 से मयामी नेशनल हरिकेन सेंटर और वर्ल्ड मेटीरियोलॉजिकल ऑर्गनाइज़ेशन (डब्ल्यूएमओ) तूफ़ानों और उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के नाम रखता रहा हैडब्ल्यूएमओ जेनेवा स्थित संयुक्त राष्ट्र संघ की एजेंसी है.

लेकिन उत्तरी हिंद महासागर में उठने वाले चक्रवातों का कोई नाम नहीं रखा गया था. वजह ये थी कि ऐसा करना काफ़ी विवादास्पद काम था. भारत के चक्रवात चेतावनी केंद्र के अधिकारी डॉक्टर एम माहापात्रा के मुताबिक़ इसके पीछे कारण यह था कि जातीय विविधता वाले इस क्षेत्र में काफ़ी सावधान और निष्पक्ष रहने की ज़रूरत थी ताकि यह लोगों की भावनाओं को ठेस न पहुंचाए.

साल 2004 में ये स्थिति तब बदल गईजब डब्ल्यूएमओ की अगुवाई वाला अंतरराष्ट्रीय पैनल भंग कर दिया गया और संबंधित देशों से अपनेअपने क्षेत्र में आने वाले चक्रवात का नाम ख़ुद रखने को कहा गया.

इसके बाद भारतपाकिस्तानबांग्लादेशमालदीवम्यांमारओमानश्रीलंका और थाईलैंड को मिलाकर कुल आठ देशों ने एक बैठक में हिस्सा लिया.

इन देशों ने 64 नामों की एक सूची सौंपी. हर देश ने आने वाले चक्रवात के लिए आठ नाम सुझाए. उत्तरी हिंद महासागर के क्षेत्र में आने वाले तूफ़ानों के नाम इसी सूची से रखे जाते हैं.

नाम पर विवाद

इस सूची में शामिल भारतीय नाम काफ़ी आम नाम हैंजैसे मेघसागरऔर वायुचक्रवात विशेषज्ञों का पैनल हर साल मिलता है और ज़रूरत पड़ने पर सूची फिर से भरी जाती है. ऐसा नहीं कि 64 नामों की इस सूची को लेकर कोई विवाद नहीं रहा. 2013 में श्रीलंका की ओर से रखे गए ‘महासेन‘ नाम को लेकर श्रीलंका के राष्ट्रवादियों और अधिकारियों ने विरोध जताया था जिसे बाद में बदलकर ‘वियारु‘ कर दिया गया.

उनके मुताबिक़ राजा महासेन श्रीलंका में शांति और समृद्धि लाए थेइसलिए आपदा का नाम उनके नाम पर रखना ग़लत है.

फणी मतलब सांप

बांग्लादेश में ‘फणी‘ सांप को कहते हैंये शब्द फन या फण से ही बना है. या ये कहें कि फन का बंगाली उच्चारण है. फणी संस्कृत का शब्द है जिसका अर्थ होता है सांप का सिर. इसी से फणीश्वर बना है जो भगवान शिव के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

यह सूची हर देश के वर्ण क्रम के अनुसार है. इस क्षेत्र में जून 2014 में आए चक्रवात ‘नानुक‘ का नाम म्यांमार ने रखा था.

सदस्य देशों के लोग भी नाम सुझा सकते हैंमसलन भारत सरकार इस शर्त पर लोगों की सलाह मांगती है कि नाम छोटेसमझ आने लायकसांस्कृतिक रूप से संवेदनशील और भड़काऊ न हों.

बीते साल आए तूफ़ान तितली का नाम पाकिस्तान ने रखा था. वहीं 2018 में ही आए तूफ़ान गज ने भारी तबाही मचाई थी. साल 2013 में भारत के दक्षिणपूर्वी तट पर आए पायलिन चक्रवात का नाम थाईलैंड ने रखा थाइस इलाक़े में आए एक अन्य चक्रवात ‘नीलोफ़र‘ का नाम पाकिस्तान ने रखा था.

पाकिस्तान ने नवंबर 2012 में जिस चक्रवात का नाम रखा था उसे ‘नीलम‘ कहा गयाडॉक्टर महापात्रा के मुताबिक साल 2014 में आया चक्रवात हुदहुद इस सूची का 34वां नाम था.