Remdesivir : क्या Coronavirus का इलाज है रेमेड्सविर दवा?

Health

भारत समेत दुनियाभर में कोरोना वायरस(Covid-19) से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. मरने वालों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है. विश्‍वभर में सैकड़ों लोगों की जान रोजाना कोरोना वायरस के संक्रमण से जा रही है. समस्‍या ये है कि इस वायरस से लड़ने के लिए अभी तक कोई दवा या वैक्‍सीन खोजी नहीं जा सकी है. ये सवाल लगातार उठता रहा है कि आखिर कोरोना वायरस से जान बचाने वाली दवा या टीका कब तक बन जाएगा. इसके लिए पूरी दुनिया में वैज्ञानिक रिसर्च में लगे हुए हैं. वैज्ञानिकों का दावा रहा है कि वैक्सीन आने में एक साल तक का वक्त लग सकता है. तो वहीं दुनिया में कोरोना वायरस का सबसे बड़ा गढ़ बन चुके अमेरिका के शिकागो शहर से एक अच्छी खबर सामने आ रही है.

अ‍मेरिका में जहां इस महामारी से अ‍ब तक 34 हजार से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है और 678,000 से ज्यादा लोग संक्रमित हैं. ऐसे विपरीत समय में, शिकागो मेडिकल सेंटर, गिलीड साइंसेज ने एक दवा का निर्माण किया है, जिसका नाम है “रेमेड्सविर”.यह एक एंटीवायरल न्यूक्लियोटाइड एनालॉग ड्रग है. बताया जा रहा है कि इससे COVID-19 के मरीजों का इलाज संभव हो पाएगा.

फिलहाल, इबोला के खात्‍मे के लिए तैयार की गई इस ऐंटी वायरल दवा रेमेड्सविर से अमेरिका के शिकागो के एक अस्पताल में COVID-19 के मरीजों पर इसका परीक्षण किया गया है.शिकागो मेडिकल सेंटर (यूसीकोगो मेडिसिन) विश्वविद्यालय द्वारा शोध किए गए इस दवा को जब COVID-19 के रोगियों को दिया गया तो उनमें काफी तेजी से सुधार नजर आया. उनके बुखार और श्वसन संबंधी लक्षण में कमी देखी गयी है.

इस दवा का शोध कर रहे डॉक्टर कैथलीन मुलेन ने बताया कि गंभीर रूप से बीमार रोगियों में 125 लोगों को यह दवा दी गई जिसमें से 123 लोग 1 हफ़्ते के अंदर इस दवा से ठीक हो गए हैं और उन्‍हें डिस्‍चार्ज कर दिया गया है.  जिसमें गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम वाले मरीज 113 थे.खबरों की मानें तो 4 अप्रैल को पहली बार रेमेड्सविर दवा का सफल परीक्षण इन रोगियों में शामिल सबसे पहले रोगी पर किया गया. यह रोगी शिकागो के एक कारखाना में कर्मचारी था और अपनी बेटी से संक्रमित हुआ था.

इस दवा की खासियत यह है कि COVID-19 के मरीजों को सांस से संबंधी समस्याएं बढ़ जाती है, ऐसे में उन्हें वेंटिलेटर पर रखना पड़ता है या ऑक्सीजन चढ़ाना पड़ता है. ऐसे में रेमेड्सविर दवा इन रोगियों में ऑक्सीजन की मात्रा को कम करने में सक्षम पाई गई है.इस जादुई दवा से मरीजों का ठीक होना पूरी दुनिया के लिए एक शुभ संकेत है.

इससे पहले फरवरी में विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक डॉक्टर ने कहा था कि फिलहाल सिर्फ एक ड्रग है जो हमें लगता है कि प्रभावी हो सकता है और वह है “रेमेड्सविर”