कोविड वैक्सीन के लिए आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से लिंक करना होगा, पूरी प्रक्रिया यहां जानिये

देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत हो चुकी है. टीकाकरण के पहले फेज़ में 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. केंद्र सरकार ने इस अभियान पर नजर रखने के लिए राज्यों से कहा है कि वे लोगों के आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से लिंक कराए, जिससे की वैक्सीनेशन में शामिल होने के लिए उन्हें मैसेज भेज कर सूचित किया जा सके. टीकाकरण के लिए आधार कार्ड का होना जरूरी है. इससे यह पता चल पाएगा कि वैक्सीन का पहला और दूसरा डोज कब दिया गया है.

source- aaj tak

हिंदू बिजनेसलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीन लगवाने से पहले अपने फोन को आधार कार्ड से लिंक कराना होगा. कोविड 19 के डेटा मैनेजमेंट और एपॉवर्ड ग्रुप ऑफ टेक्नोलॉजी के चेयरमैन आरएस शर्मा के अनुसार किसे, कब और कौन सी वैक्सीन लगानी है इसकी जानकारी के लिए डिजिटल रिकॉर्ड का होना जरूरी है. आरएस शर्मा ने आगे कहा कि आप निश्चित रहें, आपका डेटा सुरक्षित रहेगा.

CoWIN ऐप –

कोविन ऐप एक रजिस्ट्रेशन प्लेटफॉर्म है. टीका लगवाने के लिए इस प्लेटफॉर्म पर रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है. इसके अलावा सरकार इस ऐप की मदद से टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया पर नजर बनाए हुए है.

वैक्सीनेशन के बाद अस्थायी प्रमाण पत्र-

वैक्सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने पहले डोज के बाद अस्थायी प्रमाण पत्र देना शुरू किया है. इसके तहत अब तक 8 लाख लोगों को प्रमाण पत्र दिया जा चुका है. यह प्रमाण पत्र कोविन ऐप के द्वारा भेजा जा रहा है. जो पूरी जरह क्यूआर कोड से लैस है.

इस प्रमाण पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो के साथ ‘दवाई भी और कड़ाई भी’ लिखा हुआ है. क्यूआर कोड वाला यह प्रमाण पत्र केवल 28 दिन के लिए ही मान्य है. कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद एक दूसरा प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा जिसमें लाभार्थी की फोटो होगी.