भारत में कोरोना के नये स्ट्रेन की इंट्री, अब तक 6 लोगों में मिला नया स्ट्रेन

भारत में कोरोना वायरस के नये स्ट्रेन की इंट्री हो चुकी है. भारत में अबतक 6 लोगों में कोरोना के नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई है. इन सभी लोगों को आइसोलेशन रूम में रखा गया है और इनके संपर्क में आने वाले लोगों को भी क्वारंटाइन में रखा गया है.

इस नये स्ट्रेन की जानकारी के बाद ही भारत सरकार ने 22 नवंबर की रात 12 बजे से 31 दिसंबर की रात 12 बजे तक भारत से ब्रिटेन आने-जाने वाली फ्लाइट्स पर रोक लगा दी थी.

source-the financial times

कोरोना का नया स्ट्रेन क्या है –

कोरोना के नए स्ट्रेन को 17 बदलावों के समूह द्वारा परिभाषित किया गया है. यह स्पाइक प्रोटीन में एक एन 5019 म्यूटेशन है. यह वायरस मानव एसीई2 रिसेप्टर को बांधने के लिए उपयोग करता है. स्पाइक प्रोटीन के इस हिस्से में परिवर्तन के परिणाम स्वरुप वायरस अधिक संक्रामक हो सकता है और लोगों के बीच अधिक आसानी से फैल सकता है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने लौट रहे लोगों के लिए नोटिफिकेशन जारी कर बताया था कि ब्रिटेन से लौट रहे यात्रियों का आरटी-पीसीआर टेस्ट होगा. कोरोना पॉजिटिव पाए जाने वाले यात्रियों को अलग आइसोलेशन में रखा जा रहा है. इसके अलावा वायरस के जीनोम को पुणे में स्थित लैब नेशनल वाइरोलॉजी इंस्टीट्यूट भेजा जा रहा है.

25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच भारत के अलग-अलग एयरपोर्ट पर ब्रिटेन से कुल 33 हजार लोग आए थे. इनमें से 114 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए. जब इनके कोरोना के सैंपल को जांच के लिए भेजा गया तो 6 लोगों में नए कोरोना के नए स्ट्रेन का पता चला है.

इन सभी मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की ट्रेंसिग की जा रही है इसके अलावा उनके करीबी लोगों को भी क्वारंटाइन किया जा रहा है.

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के मामले भारत से पहले डेनमार्क, नेदरलैंड्स, इटली, स्वीडन, जर्मनी, स्विटजरलैंड, जापान, लेबनान, कनाडा, स्वीटजरलैंड आस्ट्रेलिया जैसे देशों में आ चुके हैं.