लाल किले पर निशान साहिब का झंडा लगाने वाला दीप सिद्धू कौन है?

किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा का आरोप पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू पर लग रहा है. भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चंढूनी ने दीप सिद्धू पर हिंसा का आरोप लगाते हुए कहा कि किसान संगठनों का लाल किला जाने का कोई कार्यक्रम नहीं था. दीप सिद्धू ने ही किसानों को भड़काया और लाल किले की तरफ ले गया. वहीं योगेंद्र यादव का कहना है कि दीप सिद्धू और गैंगेस्टर से नेता बने लखा सिधाना ने सिंघु बॉर्डर पर भी किसानों को भड़काने की कोशिश की थी. इस बात की जांच होनी चाहिए कि दीप सिद्धू लाल किले की प्राचीर तक कैसे पहुंच गया.

source- Lokmat

इसके बाद दीप सिद्धू ने सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक पर अपनी सफाई में कहा कि हमने प्रदर्शन के तहत केवल प्रतिकात्मक विरोध के लिए ‘निशान साहिब’ का झंडा वहां लगाया था. दीप सिद्धू ने आगे कहा कि कुछ किसान संगठन के नेताओं ने प्रस्तावित रूट फॉलो नहीं करने की बात कही थी.

कौन हैं दीप सिद्धू-

दीप सिद्धू का जन्म साल 1984 में पंजाब के मुक्तसर में हुआ था. दीप सिद्धू पंजाबी एक्टर हैं. ये किंगफिशर मॉडल हंट के विजेता रह चुके हैं. इसके अलावा वो मिस्टर इंडिया कॉन्टेस्ट में मिस्टर पर्सनैलिटी का खिताब भी जीत चुके हैं. दीप सिद्धू की पहली पंजाबी फिल्म रमता जोगी है. हालांकि, उन्हें पहचान साल 2018 में आई उनकी फिल्म जोरा दास नुम्बरिया से मिली थी.

source- Newsd.in

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में दीप सिद्धू ने अभिनेता और सांसद सनी देओल के लिए चुनावी कैंपेन किया था. हालांकि लाल किले पर हुई घटना में दीप का नाम सामने आने पर सनी देओल को मामले में सफाई देनी पड़ी. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “आज लाल किले पर जो हुआ, उसे देख कर मन बहुत दुखी हुआ है. मैं पहले भी, 6 दिसंबर को ट्वीट कर स्पष्ट कर चुका हूं कि मेरा या मेरे परिवार का दीप सिद्धू के साथ कोई संबंध नही है. जय हिन्द.”

किसान आंदोलन तक कैसे पहुंचे दीप सिद्धू-

सामाजिक कार्यकर्ता और कुछ कलाकारों ने बीते वर्ष 25 सितंबर को किसान आंदोलन को समर्थन देने का निर्णय लिया. जिसमें में से एक दीप सिद्धू भी थे. इन्होंने सोशल मीडिया पर अपने प्रशंसकों से किसान समस्या को उठाने का आग्रह किया. हालांकि बहुत से किसान संगठन दीप सिद्धू के शामिल होने पर इसका विरोध भी कर रहे थे. किसानों ने दीप सिद्धू को आरएसएस और बीजेपी का एजेंट भी बताया.

खालिस्तान समर्थक होने का आरोप-

कुछ दिन पहले दीप सिद्धू को ‘सिख फॉर जस्टिसट’ संगठन के साथ संबंध रखने के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनआईए) ने नोटिस जारी किया था. दीप सिंह सिद्धू ने किसान आंदोलन के समय किसान संगठन के नेताओं पर सवाल उठाया था. इस दौरान उन्होंने संभु मोर्चा नाम से नए किसान संगठन की घोषणा भी की थी.