IMA ने पतंजलि के कोरोनिल पर उठाए सवाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन सवालों के घेरे में

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने पतंजलि की कोरोना की दवा कोरोनिल का समर्थन करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन पर सवाल उठाया है. मॉर्डन साइंटिफिक सिस्टम ऑफ मेडिसिन्स के डॉक्टरों का कहना है कि स्वास्थ्य मंत्री डा.हर्षवर्धन ने बाबा रामदेव द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जाकर डॉक्टरों से संबंधित आचार संहिता का उल्लंघन किया है.

गौरतलब है कि बाबा रामदेव ने 19 फरवरी को कोरोना की दवा कोरोनिल टैबलेट लॉन्च की थी. दवा की लॉन्चिंग के दौरान स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद थे.

Source- The Financial Express

IMA के अधिकारियों के अनुसार बाबा रामदेव ने सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की आड़ में गलत जानकारी साझा की है. 22 फरवरी IMA के अधिकारिक बयान के अनुसार स्वास्थ्य मंत्री ने गैर-वैज्ञानिक दवा का गलत और बढ़ाचढ़ाकर पेश किया है. वहीं WHO की ओर से कोरोनिल को खारिज करना भारत की जनता के लिए बेइज्जती है.

IMA के राष्ट्रीय अध्यक्ष जॉनरोस ऑस्टिन जयलाल ने डॉ. हर्षवर्धन के कोरोनिल लॉन्चिंग में जाने पर नाराजगी जताते हुए कहा, “हम पूछ रहे हैं, आखिरकार वह वहां गए ही क्यों”,

19 फरवरी को बाबा रामदेव ने कोरोना की दवा लॉन्चिंग के दौरान एक प्रेस कॉन्फेंस की थी. जिसमें आचार्य बालकृष्ण ने दवा से जुड़े रिसर्च पेपर जारी किए. जिसके अनुसार कोरोनिल टेबलेट को WHO ने प्रमाणित किया है. पंतजलि की तरफ से जारी बयान में दावा किया जा रहा है कि कोरोनिल टेबलेट 158 देशों में जाने के लिए तैयार है.

बाबा रामदेव की दवा पर विवाद तब गहराया, जब उन्होंने दावा किया उनकी दवा कोरोनिल, सर्टिफिकेट ऑफ फॉर्मासुटिकल प्रोडक्ट-डब्ल्यूएचओ से प्रमाणित है. जबकि WHO ने ट्वीट करते हुए कहा कि उसने किसी भी पारंपरिक दवा को प्रमाणित नहीं किया है.