इन 5 राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में की गई कटौती

तेल की बढ़ती कीमतों से आम जनता परेशान है. तेल की लगातार बढ़ते कीमतों के पीछे दो कारण बताए जा रहे हैं, पहला यह कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि हुई है. वहीं दूसरी ओर केंद्र और राज्य सरकार द्वारा पेट्रोल- डीजल पर वास्तविक दर से ज्यादा टैक्स ले रहें हैं. पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के बीच कुछ राज्यों ने आम नागरिकों को राहत देने के लिए टैक्स में कटौती करने का फैसला लिया है.

नागालैंड सरकार ने 22 फरवरी को पेट्रोल और डीजल पर टैक्स कम करने का फैसला किया है. नागालैंड के राज्य वित्तीय विभाग के प्रमुख सचिव ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए इसके बारे में जानकारी दी. इस नोटिफिकेशन के अनुसार नागालैंड सरकार ने पेट्रोल- डीजल पर लगने वाले टैक्स में कटौती करने का फैसला किया है. नई कीमते 22 फरवरी की मध्यरात्रि से लागू होंगी.

source-DNA

राज्य सरकार के इस ऐलान के बाद पेट्रोल पर लगने वाला टैक्स 29.80 प्रतिशत से कम होकर 25 प्रतिशत या 18.26 रुपये की जगह 16.04 रुपये कर दिया गया है. वहीं डीजल पर टैक्स रेट को 17.50 प्रतिशत से घटाकर 16.50 प्रतिशत या 11.08 रुपये से घटाकर 10.51 रुपये लीटर कर दिया गया है. तेल की कीमतों में राहत देने वाला नागालैंड पांचवां राज्य बन गया है. इससे पहले मेघालय, राजस्थान, असम, पश्चिम बंगाल की सरकारों ने पेट्रोल-डीजल के दामों में टैक्स कम किए थे.

राजस्थान के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये लीटर से ज्यादा हो गया था. जिसके बाद राजस्थान सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर वैट को 38 प्रतिशत से घटाकर 36 प्रतिशत कर दिया. इसी प्रकार पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर लगने वाले टैक्स में 1 रुपये की कटौती की. वहीं असम सरकार ने तेल की कीमतों में 5 रुपये प्रति लीटर तक टैक्स कम करने का ऐलान किया.

Source- Newsd.in

पेट्रोल-डीजल की कीमतों सबसे बड़ी कटौती मेघालय सरकार ने की. राज्य सरकार ने पेट्रोल पर 7.4 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 7.1 रुपये लीटर टैक्स कम करने का ऐलान किया. मेघालय ने तेल पर लगने वाले वैट टैक्स को 31.62 प्रतिशत से कम करके 20 प्रतिशत कर दिया है.