WHO की टीम का दावा, वुहान की लैब से नहीं निकला कोरोना वायरस

WHO ने मंगलवार को बताया कि चीन के वुहान में कोरोना वायरस की उत्पति के प्रमाण नहीं मिले हैं. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ( WHO) और चीन की जॉइंट स्टडी टीम के सदस्य लियांग वानियान ने 9 फरवरी को जानकारी देते हुए बताया कि वायरस चीन के लैब से जनरेट होने की संभावना नहीं है. अभी तक ऐसे कोई प्रमाण नहीं मिले हैं जिससे यह कहा जा सके कि वायरस वुहान के किसी लैब से निकला है. इसके सोर्स के पहचान के लिए और रिसर्च करने की जरूरत है.

17 नवंबर साल 2019 को पहला मामला –

चीन की वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निग पोस्ट ने सरकारी दस्तावेजों के हवाले से बताया था कि हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में 17 नवंबर साल 2019 को कोरोना का पहला मामला सामने आया था. लेकिन चीन ने कोरोना वायरस से संक्रमित पहले मरीज की जानकारी इसके 21 दिन बाद 8 दिसंबर को दिया था.

Source- Bhaskar

27 दिसंबर को हुबेई के एक अस्पताल के डॉक्टर जैंग जिक्सियन ने बताया था कि एक नई तरह के वायरस से लोग संक्रमित हो रहे हैं.

अब तक 10.70 करोड़ से ज्यादा कोरोना के मामले-

दुनियाभर में अब तक कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 10.70 करोड़ से ज्यादा हो गया है. ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 7 करोड़ 89 लाख है. वहीं 23 लाख 38 हजार से ज्यादा लोग कोरोना से अपनी जान गंवा चुके हैं.

रूस पर लगा कोरोना से मरने वालो का आंकड़ा छिपाने का आरोप-

कोविड-19 महामारी से हुई मौतों को लेकर चीन के बाद अब रूस पर आंकड़े छिपाने के आरोप लग रहे हैं. दरअसल रोस्टर नाम की एक एजेंसी ने रूस में कोरोना से मरने वालों को लेकर एक नया आंकड़ा जारी किया जिसके मुताबिक रूस में कोरोना से मरने वालों की संख्या दिसंबर तक 1.62 लाख है.

हालांकि रूसी सरकार ने 8 फरवरी को नए आंकड़े जारी किए जिसके मुताबिक रूस में अभी तक कुल 77 हजार 68 लोगों की ही कोरोना से मौत हुई है.