26 जुलाई को इस्तीफा दे सकते हैं येदियुरप्पा, नए मुख्यमंत्री के रेस में ये 7 बड़े नेता शामिल

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा 26 जुलाई को अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के प्रति मन में सम्मान और प्यार है. बीजेपी की नीति साफ है कि 75 साल से उपर होने के बाद कोई पद ग्रहण नहीं किया जा सकता है. मेरे लिए पार्टी ने बड़क्कपन दिखाया. मुझें 78-79 साल की उम्र तक काम करने दिया. मेरा लक्ष्य पार्टी को मजबूत करना है. 26 जुलाई को मेरे कार्यकाल का 2 साल पूरे हो जाएंगे उसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा जी जो कहेंगे उसका पालन होगा.

सीएम येदियुरप्पा ने आगे कहा कि बीजेपी को कर्नाटक की सत्ता में वापस लाना है. पार्टी कार्यकर्ताओं से अनुरोध है कि सभी अनुशासन का पालन करें. हाई कमान जो फैसला करेगी मैं वो करूंगा. खबरों के मुताबिक येदियुरप्पा ने 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर अपने इस्तीफे की पेशकश की थी. उन्होंने बताया कि उनका स्वास्थ्य सही नहीं रह रहा है. हाल ही में उनके करीबी शोभा करंदलाजे को केंद्र में मंत्री बने हैं.

Source – TOI

मुख्यमंत्री की रेस में कौन है सबसे आगे-

कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री की रेस में प्रह्लाद जोशी. बीएल संतोष, लक्ष्मण सवदी, मुर्गेश निराणी, वसवराज एतनाल, अश्वत नारायण और डीवी सदानंद गौड़ा है.

प्रह्लाद जोशी-

वर्तमान में पह्लाद जोशी धारवाड़ से सांसद हैं और केंद्र में संसदीय कार्य मंत्री के साथ प्रदेश अध्यक्ष भी हैं. साल 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र में मंत्री बनाया गया. बीजेपी के लिए प्रह्लाद ब्राम्हण और गैर लिंगायत चेहरा हैं.

बीएल संतोष-

बीएल संतोष को कर्नाटक के बड़े ब्राम्हण नेता के तौर पर जाना जाता हैं. कर्नाटक में ये लंबे समय तक संगठन मंत्री रहे हैं.

लक्ष्मण सदवी-

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री लक्ष्मण सदवी तीन बार विधायक और दो बार मंत्री रह चुके हैं. बीजेपी के लिए लक्ष्मण बड़ा लिगायत चेहरा हैं.

मुर्गेश निराणी-

बिलगी विधासभा क्षेत्र से तीन बार के विधायक मुर्गैश निवाणी वर्तमान में राज्य सरकार में खान और भूविज्ञान मंत्री हैं. मुर्गेश को साल 2014 में मेक इन इंडिया का पुरस्कार भी मिल चुका है.

वसवराज एतनाल-

वसवराज एतनाल वाजपेयी सरकार में कपड़ा मंत्री और रेल राज्य मंत्री रह चुके हैं. बीजापुर लोकसभा क्षेत्र से दो बार सांसद रह चुके है और एक बार विधानसभा परिषद के सदस्य रहे हैं. वसवराज एतनाल एक तेजतर्रार लिंगायत नेता हैं.

अश्वत नारायण-

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री अश्वत नारायण चार बार से बंगलोर मल्लेश्वर से विधायक और वोकालिग्गा चेहरा हैं.

डीवी सदानंद गौड़ा-

डी वी सदानंद गौड़ा केंद्र में मंत्री रह चुके हैं. वर्तमान में बंगलोर उत्तर से सांसद हैं. साल 2011 से 2012 तक मुख्यमंत्री रह चुके हैं. एक बार प्रदेश अध्यक्ष और चार बार विधायक रह चुके हैं.