Home Facts एक कीड़े के घर से प्राप्त होता है मूंगा रत्न, जानिये मूंगा...

एक कीड़े के घर से प्राप्त होता है मूंगा रत्न, जानिये मूंगा से जुड़ी 13 रोचक बातें

SHARE

धार्मिक कथाओं और ग्रंथों के अनुसार रत्नों में श्रेष्ठ माने जाने वाले मूंगा रत्न को अपनी राशि के अनुसार पढ़ने से परेशानियां दूर हो जाती हैं. इसे मंगल ग्रह का प्रतिनिधि रत्न माना जाता है. आइये जानते हैं मूंगा से संबंधित कुछ दिलचस्प तथ्य

1- वैसे मूंगा मुख्यत: लाल रंग का होता है. लेकिन इसके अलावा मूंगा गेरुआ, सफेद, सिंदूरी काले रंग का भी होता है.

2- मूंगा को अंग्रेजी में कोरल कहते हैं. इसके अलावा इसे भौम रत्न, प्रवाल, मिरजान और पोला नाम से भी जानते हैं.

3- मूंगा रत्न एक जैविक रत्न है.

मूंगा रत्न
courtesy-Questions and Answers

4- मूंगा, आईसिस नोबाइल्स नाम के एक समुद्री कीड़े का घर होता है, जिसे कीड़ा खुद अपने लिये बनाता है.

5- मूंगा समुद्र के गर्भ से लगभग 6 सौ से 7 सौ फीट नीचे गहरी चट्टानों में मिलता है. क्योंकि इसे बनाने वाला कीड़ा यहीं पर इसे बनाता है.

6- आईसिस नोबाइल्स के घरों को मूंगे की बेल या मूंगे का पौधा भी कहते हैं.

7- इस पौधे में पत्ता नहीं होता, सिर्फ शाखायें होती हैं. इस पौधे की लंबाई 1 से 2 फुट तक होती है. और मोटाई 1 इंच के आसपास होती है. जो कई बार इससे भी ज्यादा हो सकती है.

8- जब मूंगा परिपक्व हो जाता है तो इसे मशीनों के द्वारा निकालकर कटिंग करके मनचाहे आकार दे दिये जाते हैं.

9- अगर आप ये सोच रहे हैं कि मूंगा कोई पेड़ होता है तो आप गलत हैं क्योंकि ये कोई वनस्पति नहीं है. इसकी सिर्फ आकृति पेड़ जैसी होती है. जिसलिये इसे मूंगे का पेड़ कहते हैं.

10- मूंगा का रंग इस बात पर निर्भर करता है कि वो समुद्र में किस गहराई में पाया गया है. गहराई बढ़ने के साथ मूंगे का रंग हल्का होता जाता है. और गहराई घटने में इसके रंग में गाढ़ापन बढ़ने लगता है.

11- मूंगा के केमिकल स्ट्रक्चर की बात करें तो ये कैल्शियम कार्बोनेट के रूप में होता है.

12- मूंगा हिंद महासागर इटली, जापान के अलावा भूमध्य सागर के तटवर्ती देश अल्जीरिया, सिगली के कोरल सागर और ईरान की खाड़ी में पाया जाता है.

13- धार्मिक दृष्टिकोण से मूंगा पहनने से होने वाले लाभों के अलावा दिल संबंधी रोगों में भी मूंगा फायदा करता है. साथ ही मूंगा पहनने से रक्त साफ होता है.