Home Facts भारतीय रेलवे से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्य जो शायद ही आपको...

भारतीय रेलवे से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्य जो शायद ही आपको पता हों

SHARE

भारतीय रेलवे के बारे में बहुत कम लोगों को पता होगा कि देश में सबसे कम दूरी की ट्रेन मात्र 3 किमी चलती है और पहली ट्रेन 16 अप्रैल साल 1853 में मुंबई-ठाणे के बीच चली थी. करीब 162 साल पुरानी भारतीय रेलवे अब बुलेट और सेमी हाईस्पीड ट्रेन के इस दौर में जा रही है. आइए जानते हैं रेलवे से जुड़े ऐसे रोचक फैक्ट्स जो शायद ही आपको पता होंगे.

सबसे कम दूरी तय करने वाली ट्रेन:

भारतीय रेलवे नागपुर जंक्शन से अजनी स्टेशन के बीच ट्रेन चलाती है जो कि सबसे कम दूरी तय करने वाली भारतीय ट्रेन है. महाराष्ट्र के नागपुर जंक्शन और अजनी रेलवे स्टेशन के बीच की दूरी लगभग 3 किलोमीटर (2.8 किमी) है. रेलवे इस ट्रेन को कर्मचारियों को अजनी वर्कशॉप तक पहुंचाने के लिए चलाती है.

भारतीय रेलवे

एक जगह पर दो स्टेशन:

भारतीय रेलवे का इतिहास जितना पुराना है उतनी ही रोचक बातें इससे जुड़ी हुई हैं. महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में रेलवे रूट पर स्थित 2 रेलवे स्टेशन एक ही जगह पर हैं. श्रीरामपुर और बेलापुर रेलवे स्‍टेशन रेलवे ट्रैक के विपरीत दिशा में एक ही जगह पर स्थित हैं.

मथुरा जंक्शन से निकलते हैं सबसे अधिक रूट:

देशभर में रेलवे के जितने जंक्शन हैं उसमें से मथुरा रेलवे जंक्शन से सबसे अधिक 7 रेलवे रूट डाइवर्ट होते है. जिसमें ब्रॉड ग्रेज लाइन वाले रूट में मथुरा-आगरा कैंट, भरतपुर-अलवर और मथुरा-दिल्ली है. मीटर गेज लाइन वाला रेलवे रूट मथुरा से डाइवर्ट होता है जिसमें अछनेरा, वृंदावन, हाथरस और कासगंज प्रमुख स्टेशन हैं. इसके अलावा रेलवे के कई जंक्शन हैं जहां से कई रूट डाइवर्ट होते हैं. इसमें छह रूट वाला जंक्शन भटिंडा, 5 रूट वाले जंक्शन लखनऊ, गुंतकाल, कटनी, वाराणसी, कानपुर सेंट्रल, विल्लापुरम, दबोही और नागपुर आदि हैं.

भारतीय रेल का सबसे पावरफुल रेल इंजन:

भारतीय रेलवे में सबसे पावरफुल रेल इंजन में इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव WAG-9 शामिल है जो गुड्स ट्रेन (मालगाड़ी) में इस्तेमाल होता है. रेलवे के 6350 हॉर्सपावर क्षमता वाली इस इंजन का मोडिफाई वर्जन WAP-7 है. यह इंजन 24 कोच की पैसेंजर ट्रेन को 140 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से खींच सकता है.

साल 1909 में भारतीय ट्रेनों में हुई टॉयलेट की शुरुआत:

साल 1909 में भारतीय रेलवे ने ट्रेनों में टॉयलेट की शुरुआत की. दरअसल ट्रेन में सफर के दौरान एक यात्री ओखिल चंद्र सेन ने रेलवे (साहिबगंज रेलवे डिविजन ऑफिस) को इस समस्या से अवगत कराया. इसके बाद से ही ब्रिटिश शासन ने ट्रेनों में टॉयलेट की शुरुआत की.
पहले आम बजट के साथ पेश होता था रेल बजट:

भारत में पहले रेल बजट और आम बजट एक साथ पेश किया जाता था जिसमें रेल बजट की हिस्सेदारी करीब 70 फीसदी थी. रेल बजट को आम बजट से अलग करने का काम ईस्ट इंडिया रेलवे कमेटी के चेयरमैन सर विलियम एम एक्वर्थ ने साल 1924 में किया था.

सबसे तेज गति से चलने वाली भारतीय ट्रेन:<

देश में सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन नई दिल्ली-भोपाल शताब्‍दी एक्‍सप्रेस है. यह ट्रेन नई दिल्ली से भोपाल के बीच 704 किलोमीटर की दूरी 7 घंटे 50 मिनट में तय करती है.

देश में सबसे धीमी गति से चलने वाली ट्रेन:

मेटूपलायम ऊटी नीलगिरी पैसेंजर ट्रेन भारत में सबसे धीमी गति से चलने वाली ट्रेन है. यह ट्रेन 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पटरी पर दौड़ती है. चूंकि, भारतीय रेल की यह ट्रेन पहाड़ी क्षेत्र में चलती है इसलिए इस ट्रेन की गति इतनी तय की गई है. इसके अलावा इस ट्रेन की तरह ही रेलवे की प्रतापनगर-जंबूसर पैसेंजर ट्रेन है जिसकी रफ्तार महज 12 किमी प्रति घंटा है, यह ट्रेन 44 किलोमीटर की दूरी तय करने में 4 घंटे का समय लेती है.

भारत की पहली महिला रेलमंत्री:

ममता बनर्जी देश की पहली महिला रेलमंत्री बनीं जिनके नाम दो बार अलग-अलग सरकार में रेल बजट पेश करने का रिकॉर्ड दर्ज है. ममता बनर्जी पहली बार वाजपेयी सरकार में रेलमंत्री बनी थीं. साल 2002 में बनर्जी ने अपना पहला रेल बजट पेश किया था. ममता बनर्जी साल 2009 में मनमोहन सिंह की यूपीए-2 सरकार में दूसरी बार रेलमंत्री बनीं. ममता बनर्जी अभी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैं.

सीरिया संकट क्या है


‘जब तुम मुझे अपना कहते हो, अपने पर गुरूर हो जाता है’, श्रीदेवी के 10 बेस्ट डायलॉग्स