Home Tech 360 कहीं आपका स्मार्टफोन जानलेवा तो नहीं, इस कोड से जानें

कहीं आपका स्मार्टफोन जानलेवा तो नहीं, इस कोड से जानें

हर रोज नये स्मार्टफोन लॉन्च हो रहे हैं. हर रोज नई तकनीक आ रही है. ये तकनीक हमारी जिंदगी को जितनी आसान बना रही है, उतनी ही ये जानलेवा भी है. हम दिन भर मोबाइल पर लगे होते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिस मोबाइल पर आप ये ख़बर पढ़ रहे हैं वो जानलेवा भी हो सकता है.

मोबाइल को साइलेंट किलर भी माना जाता है, क्योंकि इसकी रेडिएशन इंसानी दिमाग और शरीर के लिए काफी खतरनाक होती है. मोबाइल रेडिएशन से ब्रेन कैंसर से लेकर न्यूरोडेगेनेरेटिव डिसऑर्डर, हार्ट फेलियर, प्रजनन क्षमता, बहरापन और सुनने में परेशानी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं.

स्मार्टफोन

क्या है SAR –

स्मार्टफोन से निकलने वाली रेडिएशन को (Specific Absorption Rate) SAR कहते हैं. इंडिया में SAR के लिए तैयार मानक के हिसाब से इसे 1.6 वॉट प्रति किग्रा से ज्यादा नहीं होना चाहिए.

इससे ज्यादा रेडिएशन होने पर ये आपको नुकसान पहुंचा सकता है. स्मार्टफोन का निर्माण करते वक्त मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन को एक स्टेंडर्ड पैमाने पर मापा जाता है, लेकिन इस समय कई ब्रांडेड हैंडसेट हाई रेडिएशन के साथ बेचे जा रहे हैं.

SAR कैसे पता करें – 

अगर आप अपने स्मार्टफोन का रेडिएशन स्तर यानी एसएआर पता करना चाहते हैं, तो अपने फोन से *#07# कोड डायल करें. अगर एसएआर वैल्यू 1.6 वॉट प्रति किग्रा (1.6 W/kg) से ज्यादा निकलकर आती है, तो अपना फोन बदल लें.

WhatsApp पर वीडियो कॉल ऐसे करें रिकार्ड