Home Health हर बीमारी का राम-बाण इलाज है मूंग की दाल, जानिए इसके 8...

हर बीमारी का राम-बाण इलाज है मूंग की दाल, जानिए इसके 8 फायदे

जब भी हम बीमार पड़ते हैं या शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो डॉक्टर्स पेशंट को मूंग की दाल या उसका पानी पीने को कहते हैं.क्योंकि इस दाल में ऐसे चमत्कारिक फायदे पाये जाते हैं जो शायद ही हर किसी को पता हो. मगर जिन्हें पता होता है उनके घर में हफ्ते में एक बार मूंग की दाल जरूर बनाई जाती होगी.बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हे दाल खाना तो पसंद होता है लेकिन उन दालों में मूंग की दाल अच्छी नहीं लगती, लेकिन आपको बता दें कि Moong Ki Daal या उसका पानी अन्य दूसरी दालों से ज्यादा फायदेमंद होती है.

मूंग की दाल खाने के बेमिसाल फायदे

मूंग की दाल
Image Source : Sehatgyan

1. मूंग दाल का पानी जिसमें प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम, सोडियम, कार्बोहाइड्रेट्स और फास्फोरस बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है.

2. Moong Ki Daal या इसके पानी में विटामिन सी, कर्ब्स, प्रोटीन्स और फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है. जिसे खाने से शरीर के हैवी मेटल्स शरीर के बाहर निकलते हैं.

3. मूंग दाल का पानी शरीर की अशुद्धियों को बाहर निकालने में मदद करता है और इसके साथ ही आपके शरीर के तापमान को भी कंट्रोल में रखता हैं.

4. Moong Ki Daal बहुत हल्की होती हैं जिसकी वजह से ये आसानी से पच जाती है. इसके साथ की मूंग की दाल का पानी पीने से गैस से संबंधित परेशानियां नहीं होती हैं.

5. शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाने पर ये दाल एनर्जी की जरूरत को भी पूरा करती है. इसके अलावा  दाल का पानी आपके दिमाग के लिए भी काफी लाभकारी होता हैं.

6. मूंग की दाल बढ़े हुए वजन को भी कम करता है. इसके लिए हर दिन आपको एक कटोरी इस दाल का पानी पीना चाहिए और साथ ही योगा या एक्सरसाइज करना चाहिए. बिना डाइटिंग किये आप मूंग की दाल का पानी पीजिए कुछ महीने बाद आप बिल्कुल फिट हो जाएंगे.

Image Source : YouTube

7. दस्त में भी मूंग की दाल या उसका पानी बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि ये शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है. अगर स्थिति ज्यादा खराब है तो एक कटोरी मूंग की दाल का पानी दो दिनों तक सुबह शाम लें फायदा मिलता है.

8. Moong Ki Daal मूंग दाल में कई तरह के पोषक तत्व और मिनरल्स पाए जाते हैं. जिस वजह से इसका पानी नवजात शिशु के लिए भी बहुत सेहतमंद होता हैं. ये शिशु को कई रोग से बचाकर उनकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं.