Home Religion इन 3 कामों से चाहे जितना पैसा कमा लो, नुकसान ही होगा

इन 3 कामों से चाहे जितना पैसा कमा लो, नुकसान ही होगा

एक श्लोक है…

अतिक्लेशेन येर्था: स्युर्धर्मस्यातिक्रमेण वा।
अरेर्वा प्रणिपातेन मा स्म तेष मन: कृथा:।।

इसका अर्थ है कि जो धन बहुत ज्यादा विवाद के बाद या धर्म का उल्लंघन करके या अपने दुश्मन या प्रतिद्वंदी के सामने शीष झुकाने से मिलता हो, वैसे पैसे को ठोकर मार देना चाहिए. क्योंकि इन तीन स्थितियों में कमाया गई बेशुमार दौलत भी आपको दरिद्रता का एहसास कराती है.

ये है वजह

-बहुत ज्यादा विवाद या क्लेश के बाद यानी किसी से वाद-विवाद करने या किसी को दुख पहुंचाने के बाद अगर हम पैसा कमाकर अपने घर ले जाते हैं तो ऐसे पैसे के कारण घर-परिवार में भी विवाद की स्थिति बनती है. इसलिए ऐसा पैसा कमाने से अच्छा आप सामान्य जिंदगी ही गुजारते रहें.

-धर्म का उल्लंघन यानी गलत काम करके कमाया गया पैसा भी जीवन में किसी को तरक्की नहीं करने देता. ऐसे पैसे को उसकी संतान नष्ट कर देती है. इसलिए गलत तरीके से पैसा नहीं कमाना चाहिए.

-शत्रु के सामने सिर झुकाने पर यानी किसी ऐसे व्यक्ति के साथ काम करने से जिसके साथ आपकी बिल्कुल नहीं बनती और वह आपको भला-बुरा कहता रहता है, अगर पैसा आता है तो ऐसा धन आपकी गरीब बना सकता है.