Home News विश्व महिला मुक्केबाजी में मैरी कॉम ने ‘गोल्ड’ में रचा इतिहास

विश्व महिला मुक्केबाजी में मैरी कॉम ने ‘गोल्ड’ में रचा इतिहास

भारत की सुपर मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम ने अपने कमाल के प्रदर्शन से यूक्रेन की हाना ओखोता को शनिवार के दिन हराकर आईबा विश्व महिला मुक्केूाज प्रतियोगिता 45-48 किग्रा फ्लाई वेट वर्ग में गोल्ड मैडल जीता है. मैरी कॉम का ये छठवां गोल्ड मैडल है जिसमें उन्होंने इतिहास रच दिया. यह कारनामा करने के वाली मैरी पहली मु्क्केबाज बन गई हैं.

ऐसे मिली मैरी कॉम को जीत :

Image Source : Daily Excelsior

35 साल की मैरी ने यह मुकाबला जजों के सर्वसम्मत फैसले से जीता औऱ जीत के बाद मैरी ने अपने प्रशंसकों को धन्यवाद भी कहा, जो भारी संख्या में आईजी स्टेडियम के केडी जाधव हॉल में इकट्ठा थे. पूरे स्टेडियम में तिरंहा लहरता देख एक बार फिर देश को अपनी बेटी मेरी कॉम पर गर्व हुआ. विश्व मुक्केबाजी प्रतियोगिता की ब्रांड अंबेस्डर मेरी कॉम पहले ही अपना सातवां विश्व चैंपियनशिप पदक सुनिश्चित करके रिकॉर्ड बना चुकी हैं और अब उन्होंने इसमें इतिहास रच दिया है. इस स्वर्ण को जीतने के बाद मैरी की आंखों में आंसू आ गए थे.

इन्होंने अपने नाम किया रजक :

मैरी कॉम
Image Source : The Indian Express

इसी मुकाबले में सोनिया का एक्सपीरिएंस मैरी से विपरित रहा, जिसमें भारतीय मुक्केबाज दूसरे राउंड में ही पस्त हो गईं. पहले राउंड में जर्मनी की मुक्केबाज ने आक्रामक खेलना शुरु कर दिया और मजबूत मुक्कों से मेजबान देश की मुक्केबाज को पीछे किया जो रक्षात्मक खेलते हुए पंच लगाने का मौका ढूंढती रह गई उसे एक ही पंच में सोनिया ने नीचे गिरा दिया.

दूसरे और तीसरे राउंड में सोनिया के पास गैब्रिएल के मुक्कों का कोई जवाब नहीं था, हालांकि सोनिया ने वापसी की कोशिश की और अंत में कई मुक्के जड़े.