Home Azab Gazab ये है दुनिया की सबसे खूबसूरत नदी, जो हर मौसम में बदलती...

ये है दुनिया की सबसे खूबसूरत नदी, जो हर मौसम में बदलती है अपने रंग

प्राकृतिक सुंदरता हर किसी को अपनी ओर आकर्षित कर लेती है. कहीं सुंदर पहाड़ तो कहीं खूबसूरत जगहें आकर्षण का केंद्र होती हैं. नदियां भी अपने आप में अलग ही खूबसूरती बटोरे हुए होती हैं. आपने भी कई खूबसूरत और रहस्यमयी नदियों को देखा या उनके बारे में सुना होगा, लेकिन हम आपको एक ऐसी नदी के बारे में बता रहे हैं जिसके बारे में सुनकर आप हैरान हो जाएंगे.

दरसअल हम बात कर रहे हैं रंगबिरंगी नदी की. ये नदी ऐसी है जो हर साल मौसम के अनुसार अपना रंग बदल लेती है. इस नदी का नाम है कैनो क्रिस्टल्स, जो कोलंबिया में बहती है. इस नदी की खास बात ये है कि यह हर मौसम के साथ अपना रंग बदलती है, कैनो क्रिस्टल्स नदी की लंबाई करीब सौ किलोमीटर और चौड़ाई करीब बीस मीटर है.

इसे भी पढ़ें: शमशान घाट जाने की महिलाओं को क्यों नहीं है अनुमति, जानिए…

कैनो क्रिस्टल्स नदी का रंग कभी हरा तो कभी पीला, कभी लाल और कभी नीला हो जाता है इसलिए इस नदी को ‘लिक्विड रेनबो’ के नाम से भी जाना जाता है. साल 2000 में इस नदी के आसपास के इलाके में कुछ हिंसक गतिविधियों वाले गुट रहते थे. जिससे कारण से नदी के आसपास वाले इलाके सुरक्षित नहीं थे. इस नदी से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर कोलंबियन मिलिट्री का अधिकार है. ये जगह अब मशहूर पिकनिक स्पॉट भी बन चुकी है.

दरअसल नदी के रंग बदलने की असली वजह एक पौधा है. इस कैनो क्रिस्टल्स नदी में मैकारैनिया क्लैवीगैरा नाम का एक पौधा है, जिसके कारण इसका रंग बदलता रहता है. इस पौधे को अगर किसी खास मौसम में निश्चित जल या निश्चित सूरज की रोशनी मिले तो इसका रंग हल्का या फिर गहरा लाल होता जाता है. ज्यादातर दिनों में इस नदी का रंग हल्का या गहरा गुलाबी और हल्का या गहरा लाल होता है. कभी-कभी इसका रंग नीला, पीला, नारंगी और हरा भी हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: वक्त से पहले का क्रिकेटर था यह तूफानी पाकिस्तानी बल्लेबाज, अगर होता तो टीम होती बहुत मजबूत

आपको बता दें कि कैनो क्रिस्टल्स नदी कोलंबिया के सरानिया दी ला मैकरेना इलाके में बहती है, जो ग्वायाबैरो नदी में मिलती है. कैनो क्रिस्टल्स नदी के रंग बदलने की ये घटना जून से लेकर नवंबर के बीच कुछ सप्ताह में दिखती है. प्रकृति की इस खूबसूरती के बरकरार रखने के लिए यहां कुछ नियम भी बनाए गए हैं, जैसे एक ग्रुप में सात से ज्यादा लोग यहां नहीं जा सकते और एक दिन में 200 से ज्यादा लोगों को इस क्षेत्र में जाने की इजाजत नहीं है.