Home Facts क्या आप जानते हैं आखिर नीले रंग का क्यों है आसमान ?

क्या आप जानते हैं आखिर नीले रंग का क्यों है आसमान ?

जब भी आप नजरें ऊपर उठाकर आसमान की ओर देखते हैं तो वो आपको नीले रंग नजर आता है. लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि आखिर आसमान का रंग लाल क्यों होता है? इंद्रधनुष की बात करें तो उसमें सभी को पता है कि सात रंग होते हैं जिसमें – विबग्योर या बैंनीआहपीनाला – बैंगनी, नीला, आसमानी, हरा, पीला, नारंगी. लाल रंग शामिल हैं.

आपको बता दें कि नीला रंग एक ऐसा रंग है जो सबसे ज्यादा फैलता है वहीं लाल रंग एक ऐसा रंग है जो अपने आप को इकट्ठा करके रखता है.

यही वजह है कि खतरे का रंग लाल होता है और गाड़ियों के पाछे भी लाल रंग की लाइट का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि ये दूर से ही दिख जाती है.

Image: loughboroughaccountants

अब आपको बताते हैं नीले रंग के बारे में. बता दें कि सूरज से हर रंग की किरणें निकलती हैं लेकिन धरती बाकी रंगों की किरणें कम से कम पहुंच पाती हैं लेकिन नीला रंग फैल जाता है और आकाश में ही दिखने लगता है, जिसकी वजह से आसमान नीला दिखाई देता है.

Image: Nishital Lab

सूरज से आने वाली किरणों में रंग इसलिए भी फैल जाते हैं क्योंकि धरती और सूरज के बीच बहुत से मोलिक्यूल्स होते हैं. उन्हींं से होकर ये रंग धरती तक पहुंचते हैं. इस प्रक्रिया को वैज्ञानिक स्केटरिंग यानी प्रकीर्णन भी कहते हैं.

बता दें कि धरती तक आते-आते नीले रंग का किरणों का सबसे ज्यादा प्रकीर्णन होता है क्योंकि ये सबसे कमजोर होती हैं. इसलिए आसमान ‘ब्लीड ब्लू’ करता है.

आसमान
Image: Beam NG

इसके अलावा जब सूरज डूब रहा होता है या उग रहा होता है तो धरती से दूर हो जाता है. इसका परिणाम ये होता है कि ज्यादा मोलिक्यूल्स रास्ते में पड़ते हैं और लाल रंग जो सबसे शक्तिशाली होता है धरती तक पहुंचता है.

लेकिन इसके बाद भी वो पूरी धरती पर नहीं चमकता है, केवल खुद एक लाल गोले की तरह दिखता.

Image: Dougt Mania

इसी वजह से गाड़ियों के पीछे लाल लाइटों का इस्तेमाल किया जाता है और आगे नीली लाइटों का इस्तेमाल किया जाता है. क्योंकि लाल रंग दूर से ही चमकता है, लेकिन किसी अन्य चीज को नहीं चमकाता है.