Home Religion हिंदू धर्म में है विभूति का बड़ा महत्व, जानिए क्यों किया जाता...

हिंदू धर्म में है विभूति का बड़ा महत्व, जानिए क्यों किया जाता है इसका इस्तेमाल

पुराने समय से ही भगवान शिव और विभूति का गहरा संबंध रहा है जिसका जिक्र पौराणिक कथाओं में भी किया गया है. हिंदू धर्म में भगवान में आस्था रखने वाले कई लोगों को आपने माथे पर विभूति लगाते हुए देखा होगा. लेकिन क्या आपने कभी ऐसा सोचा है कि आखिर इसे माथे पर लगाने का महत्व क्या है.?

photo credit-Patrika

हिंदू धर्म में विभूति को बहुत ही शुभ माना जाता है. आपको बता दें कि शास्त्रों में कुल दो तरह की राख होती है. इसमें से एक भस्म होती है जिसे शमशाम भूमि से प्राप्त किया जाता है. वहीं दूसरी तरह की राख सूखे गोबर से बनाई जाती है जिसे साधु-संत आस्था का प्रतीक समझकर अपने माथे पर लगाते हैं.

ये भी पढ़ें- शमशान घाट जाने की महिलाओं को क्यों नहीं है अनुमति, जानिए यहां

photo credit-sanjeevnitoday

ऐसा माना जाता है कि माथे में विभूति लगाने से इंसान के अंदर नकारात्मक उर्जा का विनाश होता है. इसे लगाने से दिमाग में सकारात्मक विचार आना शुरू हो जाते हैं. कहा जाता है कि विभूति को लगाने वाला इंसान कम क्रोध करता है और उसका दिमाग भी शांत रहता है.

ये भी पढ़ें- पैरों में सोना पहनने को लेकर शास्त्रों में क्यों है सख्त मनाही, जानिए यहां

photo credit-patrika

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार अगर कोई इंसान विभूति को अपने माथे पर धारण करता है तो उसे किसी से घबराहट नहीं होती और जीवन में किसी भी तरह की अनहोनी होने से बचा रहता है. शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि विभूति से घर का माहौल भी खुशनुमा रहता है.

ये भी पढ़ें- अगर आपको भी आते हैं बुरे सपने, तो पहले जानिए इससे जुड़ा अपना ज्योतिष कनेक्शन

photo credit-AajAbhi

पुरानी कहानियों की मानें तो भगवान शिव शंकर अपने पूरे शरीर में भस्म को लगाते थे. इसका संकेत ये भी है की वो सृष्टि को नश्वर समझते थे. साथ ही उनका ये भी सन्देश था की धरती पर रह कर किसी भी चीज का घमंड नहीं करना चाहिए.