Home Azab Gazab 20 करोड़ 38 लाख में नीलाम हुई दो पन्नों की चिट्ठी, इंसानों...

20 करोड़ 38 लाख में नीलाम हुई दो पन्नों की चिट्ठी, इंसानों के बारे में लिखी थी होश उड़ा देने वाली सच्चाई

आज के समय में चिठ्ठी वही लोग लिखते हैं जो टेक्नोलॉजी से दूर हैं. लेकिन ये कहना झूठ नहीं होगा की चिट्ठी लिखने से ज्यादा अब लोग मैसेज करना या फोन पर बात करना ज्यादा पसंद करते हैं. इनसब बातों से हटकर आज हम आपको एक ऐसी चिट्ठी के बारे में बताएंगे जिसे हर इंसान के पाने की चाह है. आपको बता दें कि ये चिट्ठी ‘भगवान के पत्र’ नाम से मशहूर है.

photo credit-aajtk

‘भगवान के पत्र’ नाम की ये चिट्ठी महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखी है. जिसकी नीलामी पूरे 20 करोड़ 38 लाख में रुपए में हुई है. इस चिट्ठी को पाने की हर किसी की चाह थी. क्योंकि इसमें वैज्ञानिक अल्बर्ट ने भगवान और धर्म को लेकर अपने विचारों को लिखा था.

ये भी पढ़ें- Shocking: खून के आंसू देख डॉक्टर्स भी हुए हैरान, सामने आई चौंका देने वाली वजह

20 करोड़ 38 लाख में रुपए की कीमत वाली इस चिट्ठी को अल्बर्ट ने अपनी मौत से ठीक एक साल पहले लिखा था. नीलामीघर की मानें तो सबसे पहले इस चिट्ठी की कीमत 10 करोड़ 58 लाख रुपए आंकी गयी थी. जिसकी नीलामी उम्मीद से ज्यादा रकम में हो गयी.

photo credit-Simple Wikipedia

आपको बता दें कि अल्बर्ट आइंस्टीन ने 17वीं शताब्दी की कुछ ऐसे लोगों का भी जिक्र किया है जो इंसान रुपी देवता में बिलकुल नही यकीन नहीं रखते थे. हालांकि वो ऐसा मानते थे कि भगवान एक ब्रम्हांड की सुंदरता और व्यवस्था के लिए जिम्मेदार हैं. उन्होंने अपनी चिट्ठी में ये भी लिखा था कि उनके हिसाब से भगवान शब्द का अर्थ इंसानों की कमजोरी का प्रतीक है. बाइबिल एक पूजनीय किताब है, लेकिन वो एक प्राचीन बातों का संग्रह है.

ये भी पढ़ें- OMG: इस लड़की को बालों में कलर लगाना पड़ा महंगा, सिर सूजकर बन गया बल्ब

मशहूर वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपनी दो पन्नों की चिट्ठी को 3 जनवरी 1954 को जर्मनी के दार्शनिक एरिक गटकाइंड के लिए लिखा था.