Home Religion पैरों में सोना पहनने को लेकर शास्त्रों में क्यों है सख्त मनाही,...

पैरों में सोना पहनने को लेकर शास्त्रों में क्यों है सख्त मनाही, जानिए यहां

हिंदू धर्म में रीतिरिवाजों को लेकर कई मान्यताएं हैं. बात अगर आभूषणों की करें तो इसकी तुलना मां लक्ष्मी से की गयी है. खासकर पीले रंग के गहनों से मां लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है. शास्त्रों में आभूषणों को लेकर कई महत्वपूर्ण बात कही गयी है. साथ ही खासकर सोने के गहनों को पैरों में पहनने की सख्त मनाही भी की गयी है.

photo credit-YouTube

बात अगर हमारे देश की मान्यताओं की करें तो खासकर हिंदू धर्म में पुराने समय से ही इनपर जोर दिया गया है. इन्हीं में से एक यह भी है कि महिलाओं को पैर में सोने के गहने नहीं पहनने चाहिए. इसकी क्या वजह है आज हम आपको बताते हैं.

ये भी पढ़ें- अगर आपको भी आते हैं बुरे सपने, तो पहले जानिए इससे जुड़ा अपना ज्योतिष कनेक्शन

photo credit-DesiDozz

सोने को भगवान विष्णु की सबसे प्रिय धातु मानी गयी है. कहते हैं कि सोना धारण करने से विष्णु जी खुश होते हैं. और सारी परेशानियों का भी हल हो जाता है. लेकिन सोने को कभी भी नाभि के नीचे के हिस्से में भूलकर भी नहीं पहनना चाहिए. इससे विष्णु जी का अपमान माना जाता है.

ये भी पढ़ें-चैत्र महीने से क्यों शुरू होता है हिंदुओं का नया साल, जानिए यहां

photo credit-YouTube

सोने का रंग पीला होता है जो लक्ष्मी जी का सबसे प्रिय रंग माना जाता है. शास्त्रों में सोने का सीधा कनेक्शन मां लक्ष्मी से है. जिस वजह से इन्हें धन की देवी भी कहा जाता है. ऐसा माना जाता है कि लक्ष्मी जी की कृपा से इंसान को धन की और सुख की प्राप्ति होती है. पैरों में सोना ना पहनने का एक कारण ये भी माना जाता है कि इससे देवी लक्ष्मी रूठ जाती हैं. और इंसान को अपनी जिंदगी में हमेशा आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- नई गाड़ी खरीदने पर क्यों की जाती है सबसे पहले पूजा, जानिए ऐसा है कारण

photo credit-Pinterest

बात अगर चांदी के गहनों की करें तो पैरों में इस धातु को पहनना काफी शुभ माना जाता है. क्योंकि ये शीतलता और ठंडक का प्रतीक होती है. इससे मानसिक रूप से शांति भी मिलती है. और गुस्सा भी कम हो जाता है. साथ ही चांदी की गहने पहनने से चंद्रमा मजबूत होता है.