Home Entertainment फिल्म ‘2.0’ एक ठगने और निराश करने वाली फिल्म है, जानिए क्या...

फिल्म ‘2.0’ एक ठगने और निराश करने वाली फिल्म है, जानिए क्या हैं ठोस वजहें

अभी हाल में ही रिलीज हुई फिल्म ‘2.0’ के हर जगह चर्चे हैं. फिल्म की कमाई वर्ल्डवाइड 500 करोड़ के पार भी जा चुकी है. फिल्म को कुछ समीक्षकों ने अद्भुत बताया है तो कुछ ने एवरेज. लेकिन अगर आप फिल्म देखने जाना चाह रहे हैं तो इस मामले में Azab Gazab क्या सोचता है पहले वो पढ़ लीजिए. फिर अगर मन करे तो जरूर जाएं ये फिल्म देखने…

Courtesy-Twitter

किन वजहों की वजह से आप ‘2.0’ देखने जा सकते हैं-

साल 2010 में आई फिल्म रोबोट का सीक्वल है फिल्म ‘2.0’. फिल्म में अक्षय और रजनी की जोड़ी है. दो बड़े नामों का फिल्म से जुड़ा होना और एक सुपरहिट फिल्म की प्रीक्वल होना…क्या  सिर्फ यही वो वजहें हैं जिनके लिए आप फिल्म देखने जा सकते हैं?

माना कि ये एक बहुत बड़े बजट में बनाई गई भारत की अपनी तरह की पहली ऐसी फिल्म है जिसमें VFX और स्पेशल इफेक्ट्स में अच्छा काम करने की कोशिश की गई है…. तो क्या ये भी वो वजह है जिसके लिए आप फिल्म देखने जा सकते हैं?

courtesy-indiatvnews

ये वजहें काफी नहीं फिल्म ‘2.0’ देखने के लिए-

दरअसल ऊपर लिखी जिन वजहों पर हम चर्चा कर रहे हैं अगर आप उन वजहों की वजह से फिल्म देखने जाना चाह रहे हैं तो बिल्कुल मत जाइए, क्योंकि आप सिर्फ बोर होंगे, झल्लाएंगे और अपने आप को ठगा हुआ महसूस करेंगे. अब अगर आप सोच रहे हैं कि हम ऐसा क्यों कह रहे हैं तो उसके पीछे के माकूल तर्क हैं हमारे पास.

बात ये है कि जहां साल 2010 में आई फिल्म ‘रोबोट’ एक बेहतरीन कंटेंट वाली फिल्म थी वहीं इस फिल्म से वो होने के बावजूद नदारद है. फिल्म कंटेंट के मामले में तो नई है, क्योंकि फिल्म ने जिस फोन के खतरे की बात को मुखर होकर उठाया है उस पर इसके पहले किसी भी फिल्म ने गंभीरता नहीं दिखाई है. लेकिन उस कंटेंट को पेश करने का तरीका इतना बोरिंग है कि दर्शक अपना माथा पीट लेगा. कंटेंट को बेहतरीन सीन्स के द्वारा पेश करने के बजाय उपदेश देकर पेश किया गया है.

इसे भी पढ़ें- Hollywood: थोड़ी सी उधेड़बुन कैप्टन मार्वल के साथ: आखिर क्यों है ये कैरेक्टर इतना खास

Courtesy-DNA India

अब अगर बात करें दो बड़े स्टार्स के होने की वजह से अगर आप फिल्म देखने जा रहे हैं तो भी मत जाइए क्योंकि फिल्म में अक्षय कुमार को सिर्फ हिंदी बेल्ट दर्शकों को आकर्षित करने के लिए डाला गया है. आधी फिल्म के बाद दिखाई देने वाले अक्षय कुमार के पास करने के लिए कुछ भी नहीं है. अब आप उन्हें सिर्फ अजीब से बर्डमैन अवतार में देखकर ही तो खुश नहीं हो सकते ना..?

और बात रही रजनीकांत की तो वो अपने ही स्टायल में मौजूद हैं. पूरी फिल्म में वो अपने उसी पुराने रंग में नज़र आए हैं जिसके लिए उन्हें जाना जाता है. इसलिए वो भी एक टाइम बाद बोर ही करने लग जाते हैं. हां चिट्टी वाले किरदार में उन्हें देखना अच्छा जरूर लगता है.

अब बात करें स्पेशल इफेक्ट्स और VFX की तो फिल्म इस मामले में अपनी ही प्रीक्वल से कमजोर है. फिल्म कई जगह बहुत ज्यादा प्रभावित करती है. क्योंकि इसमें पेश किए गए कुछ सीन इतने बेहतरीन हैं कि आप कुछ देर के लिए हॉलीवुड का फील लेने में सफल तो हो जाते हैं. लेकिन अचानक से बीच में कोई ऐसा सीन भी आ जाता है जिसे देखकर आप को ऐसा महसूस होने लगता है जैसे कोई एनीमेटेड फिल्म है.

सिर्फ मोबाइल से तैयार बर्ड वाले सीन और चिड़ियों के सीन को छोड़ दें तो ज्यादातर सीन में आपको कमजोर स्पेश इफेक्ट्स देखने को मिलेंगे. कई जगह तो VFX इतना कमजोर है कि आप इस बात का अंदाजा तुरंत लगा लोगे कि इसे क्रोमा में शूट किया गया है.

अब अगर आपने ये फिल्म देख ली है तो ऊपर लिखे तर्क आपको गलत नहीं लग रहे होंगे. और अगर नहीं देखी है तो ये तर्क पढ़ने के बाद फिल्म देखते समय आपका ध्यान इनकी ओर बार-बार जरूर जाएगा.

इसे भी पढ़ें- Pics : इस क्यूट एक्टर को देखकर लोग पहचान नहीं पाए, ऐसा क्या हो गया इन्हें !