Take a fresh look at your lifestyle.

आखिर क्यों सुबह से शाम तक तालाब के पानी में रहती है ये महिला

आपने तालाब से जुड़ी कहानियां तो बहुत सुनी होंगी, लेकिन आपने कभी ऐसी महिला के बारे में तो नहीं सुना होगा जिसका सारा दिन तालाब के पानी में ही बीत जाता है, जिसके जीवन का बहुत गहरा राज़ तालाब से ही जुड़ा हो. आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जो महिला सुबह होते ही तालाब ढूंढने लगती है. आप भी जानिये आखिर इस महिला को तालाब से इतना प्यार क्यों है?

दरअसल, पश्चिम बंगाल के कटवा जिले के गोवई गांव में एक महिला रहती है, जिसका नाम पटुरानी और उम्र 6० साल है. महिला के घरवालों का भी कहना है कि पिछले 20 साल से महिला सुबह-सुबह तालाब या पानी वाली जगह खोजने के लिए निकल ज़ाती है. वो रोजाना सुबह सूरज उगने से पहले और सूरज के अस्त होने पर ही अपने घर वापस जाती है.     

जी हाँ , आपको बता दें कि सुबह होते ही यह महिला गले तक खुद को तालाब के पानी में डूबा लेती हैं, और यहाँ तक की उसका सारा काम तालाब में ही होता है. तालाब में ही रहकर वो खाना भी खा लेती है, और लोगों से बातें भी करती है. तालाब से वो तभी निकलती है जब उसे घर जाना होता है

पटुरानी की इस हरकत का मुख्य कारण उसकी एक बीमारी है. बताया जाता है कि 20 साल पहले पटुरानी को एक बीमारी हो गयी थी. जिसकी वजह से उसकी त्वचा पर काफी जलन होती है. इस जलन से बचने के लिए पटुरानी रोज़ सुबह पानी में जाकर बैठ जाती है. इस बात की जब और जांच- पड़ताल की गयी तो इस बात पर पटुरानी की बेटी का भी कहना है कि  20 साल पहले से ही उनकी तबीयत खराब होने के कारण उनकी त्वचा जैसे ही धूप में आती है तो उनको जलन होने लगती है,  और बहुत गर्मी लगने लगती है, जैसे ही वह पानी के तालमेल में या पानी में चली जाती है तो महिला को राहत मिल जाती है. इसी के चलते उन्होंने अपनी ज़िन्दगी गुजारने का ये तरीका खोज लिया. पटुरानी काफी सालों से ऐसा कर रही है तो ऐसे में अब लोगों को लगने लगा है कि तालाब में ही उसकी आत्मा बसती है.

Azab Gazab- दिग्गज अभिनेता कादर खान के 15 मशहूर डायलॉग्स

Comments are closed.