Take a fresh look at your lifestyle.

कुंडली में बैठा चंद्रमा बनाता है भाग्य, जानिए कब होता है शुभ और कब अशुभ ?

क्या आप चंद्रमा के मनुष्य जीवन में पड़ने वाले शुभ और अशुभ प्रभाव को जानते हैं ? जैसे चन्द्रमा पृथ्वी में होने वाली उथल पुथल के लिए ज़िम्मेदार है. वैसे ही यह मनुष्य के सुख और दुःख का प्रमुख कारक है. यह तो आप जानते ही होंगे की पृथ्वी पर होने वाले ज्वार भाटा का प्रमुख कारण चन्द्रमा की गति ही है.

शायद आप न जानते हो चन्द्रमा के शुक्ल और कृष्ण पक्ष में घटने और बढ़ने से हम सभी कैसे प्रभावित होते हैं. आज हम आपको बताते हैं की चन्द्रमा की गति से कैसे मनुष्य का जीवन प्रभावित होता है.

1. क्या आप जानते हैं किस लग्न में चंद्रमा के होने से जातक बलवान, ऐश्वर्यशाली, सुखी, व्यवसायी, और मोटा होता है. अगर नहीं तो हम आपको बताते हैं. अगर जातक के प्रथम भाव में चंद्रमा है तो उसमे यह सारे गुण होते हैं.

2. अगर किसी मनुष्य के दूसरे भाव में चंद्रमा हो तो, वह मनुष्य मधुरभाषी, सुंदर, भोगी, परदेशवासी, सहनशील होता है.

3. तीसरे भाव में अगर चंद्रमा हो तो जातक पराक्रम से धन प्राप्ति  करने वाला, धार्मिक, यशस्वी, प्रसन्न, आस्तिक एवं मधुरभाषी होता है.

4. अगर किसी मनुष्य के चौथे भाव में चन्द्रमा हो तो वो मनुष्य दानी, मानी, सुखी, उदार, रोगरहित, और सदाचारी होता है.

5. जिस मनुष्य के लग्न के पांचवे भाव में चंद्रमा होता है तो वह मनुष्य शुद्ध बुद्धि का, चंचल, सदाचारी और शौकीन होता है.

6 आपको पता हैं किस भाव में चंद्रमा होने पर जातक हमेशा बीमार रहता है. अगर नहीं जानते तो कोई बात नहीं, अगर जातक के छठे भाव में चंद्रमा हो तो जातक कफ रोंगी, नेत्र रोगी और अल्पायु होता है.

7. चंद्रमा सातवें स्थान में होने से मनुष्य सभ्य, धैर्यवान, नेता, विचारक, प्रवासी, जलयात्रा करने वाला, अभिमानी, व्यापारी, वकील और स्फूर्तिवान होता है.

8.जिस जातक के आठवें भाव में चंद्रमा होता है वो वाचाल, स्वाभिमानी, कामी, व्यापार से लाभ लेने वाला और ईष्र्यालु होता है.

9.  नौवे भाव का जातक सम्पत्तिवान, धर्मात्मा, कार्यशील, विद्वान और साहसी होता है.

10. जिस मनुष्य के दसवें भाव में चन्द्रमा होता है, वो दयालु, यशस्वी, संतोषी और परोपकारी होता है.

11. लग्न के ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा होने से जातक चंचल बुद्धि, गुणी, दीर्घायु, और दुसरे देश में निवास करने वाला होता है.

12. बारहवे भाव में चन्द्रमा होने से जातक नेत्ररोगी, कफरोगी, क्रोधी, मृदुभाषी, और खर्चीला होता है.

Comments are closed.