FactsReligion

Christmas Day 25 दिसंबर को क्यों होता है, क्या Jesus Christ का जन्म इसी दिन हुआ?

Azab Gazab Christmas भारतीय संस्कृति को परंपराओं का संगम माना जाता है इसलिए तो यहां हर त्यौहार ज्यादातर लोग मिल-जुल कर मनाते हैं. ईसाई धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार विश्वभर में धूमधाम से मनाया जाता है.

अब इसका प्रचलन भारत में भी खूब जोरों से होने लगा है. आमतौर पर सभी ये जानते हैं ईसा मसीह का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था लेकिन इस बात का पुख्ता सबूत कहीं नहीं है फिर क्यों 25 दिसंबर को प्रभु यीशू का जन्मोत्सव मनाया जाता है और पूरी दुनिया इसे क्रिसमस डे लेकिन भारत में इसे बड़ा दिन कहा जाता है, ऐसा क्यों होता है ?

क्रिसमस डे से जुड़ी दिलचस्प बातें :

source : Thurrock Hotel

वैसे तो Christmas को प्रभु Jesus Christ या यीशु के जन्म की खुशी में मनाया जाता है लेकिन भारत में Christmas को बड़ा दिन कहने के पीछे कई अलग अलग मान्यताएं प्रचलित है. पहले इसे रोमन उत्सव के रूप में मनाया जाता था इस दिन लोग एक दूसरे को ढेर सारे उपहार देते थे.

इसके अलावा बड़े दिन के पीछे प्रभू ईसा के जन्म से जुड़ी कई और बातें भी बहुत प्रचलित हैं. चलिए बताते हैं क्रिसमस से जुड़ी कुछ अनसुनी और दिलचस्प बातें…

source : YouTube

1. Jesus Christ के जन्म की कोई वास्तविक जन्म तिथि नहीं है, लेकिन फिर भी दुनिया भर में इसे बड़े उल्लास के साथ मनाया जाता है.

2. एन्नो डोमिनी के आधार पर Jesus Christ का जन्म, 7 से 2 ई.पू. के बीच हुआ था भारत में इस तिथि को एक रोमन पर्व या मकर संक्रांति से संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया. जिसकी वजह से इसे बड़े दिन के नाम से मनाया जाने लगा.

3. वैसे तो पूरी दुनिया में इसे इसे 25 दिसंबर को मनाया जाता है लेकिन जर्मनी में 24 दिसंबर को ही इससे जुड़े कई फंक्शन शुरू हो जाते हैं.

क्रिसमस
source : Guyana Chronicle

4. Christmas के दिन Santa Claus का भी अपना अलग महत्व होता है. ऐसा कहा जाता है कि इस दिन सांता क्लॉज बच्चों के लिए ढेर सारे खिलौने और चॉकलेट लाते है.

5. कुछ लोग सांता क्लॉ‍ज को क्रिसमस का पिता भी कहते है जो केवल Christmas वाले दिन ही आते हैं. क्रिसमस का एक और दिलचस्प पहलू यह है कि ईसा मसीह के जन्म की कहानी का सांता क्लॉज की कहानी के साथ कोई संबंध नहीं है.

6. कहते हैं तुर्किस्तान के मीरा नाम के शहर के बिशप संत निकोलस के नाम पर सांता क्लॉज का चलन करीब चौथी सदी में शुरू हुआ. वे गरीब और बेसहारा बच्चों को तोहफे दिया करते थे.

क्रिसमस
source : The Sun

7. Christmas कहें या फिर बड़ा दिन कुल मिलाकर इस दिन चारों ओर खुशियां ही खुशियां दिखाई देती है. क्रिश्चियन लोग अपने घरों को सजाते है, गिरजाघरों में प्राथनाएं करने जाते हैं. अब हर धर्म के युवा चर्च जाने में विश्वास करते हैं.

8. अब Christmas आने के कुछ दिन पहले ही बाजारों में क्रिसमस गिफ्ट, कार्ड, प्रभु ईशु की कई तस्वीरें, सांता क्लॉज की टोपी, सजावटी सामग्री और केक मिलने भी शुरू हो जाते हैं.

9. Christmas का त्यौहार ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है. यह ईसाइयों का सबसे बड़ा और खुशी का त्यौहार होता है. इसलिए भी इसे ‘बड़ा दिन’ कहा जाता है.

क्रिसमस
source : findshepherd

10. क्रिसमस के दिन गिरिजाघरों में विशेष प्रार्थनाएं होती हैं एवं जगह-जगह प्रभु ईसा मसीह की झांकियां प्रस्तुत की जाती हैं. इस दिन घर के आंगन में क्रिसमस ट्री लगाया जाता है.

11. क्रिसमस के त्यौहार में केक का महत्व सबसे ज्यादा होता है. इस दिन लोग एक-दूसरे को केक खिलाकर त्यौहार की बधाई देते हैं. सांता क्लॉज का रूप बनाकर लोग बच्चों को टॉफियां-उपहार बांटते है.

12. ब्रिटेन और दूसरे राष्ट्रमंडल देशों में क्रिसमस के अगले दिन यानि 26 दिसम्बर को बॉक्सिंग डे के रूप मे मनाते हैं. कुछ कैथोलिक देशों में इसे सेंट स्टीफेंस डे या फीस्ट ऑफ़ सेंट स्टीफेंस भी कहते हैं.

Azab Gazab
source : TheHolidaySpot

13. आर्मीनियाई अपोस्टोलिक चर्च, 6 जनवरी को क्रिसमस मनाता है. पूर्वी परंपरागत गिरिजा जो जुलियन कैलेंडर को मानता है वो जुलियन वेर्सिओं के अनुसार 25 दिसम्बर को क्रिसमस मनाता है, जो ज्यादा काम में आने वाले ग्रेगोरियन कैलेंडर में 7 जनवरी का दिन होता है क्योंकि इन दोनों कैलेंडरों में 13 दिनों का अन्तर होता है.

14. ईसाइयों का यीशु के बारे में ये मान्यता है की “मसीहा” मरियम के पुत्र के रूप में पैदा हुआ क्रिसमस की कहानी मैथ्यू की धर्मं शिक्षा (गोस्पेल ऑफ़ मैथ्यू) में दिए गए बाईबिल खातों पर आधारित है.

15. दी ल्यूक की धर्मं शिक्षा (गोस्पेल ऑफ़ लुके), विशेषकर इसके अनुसार यीशु मरियम को उनके पति सेंट जोसेफ की मदद से बेतलेहेम में प्राप्त हुए थे. लोकप्रिय परम्परा के अनुसार इनका जन्म एक अस्तबल में हुआ था जो हर तरफ़ से जानवरों से घिरा था.

Azab Gazab
source : lifesitenews

16. दिसम्बर 25 को सर्दियों का उच्चतम शिखर होता है जिसे रोमांस ब्रूम फेल कहते हैं कि जब जुलियस सीसर ने जूलियन कैलेंडर का 45 ई.पू. में परिचय दिया, 25 दिसम्बर के उच्चतम शिखर के लगभग की तारीख थी.

17. आज के समय में यह ठण्ड दिसम्बर 21 या 22 को पड़ती है यह ऐसा दिन होता है जिस दिन सूर्य ख़ुद को अपराजित सिद्ध कर के उत्तरी दिशा में क्षितिज की तरफ़ बढ़ता है, कैथोलिक विश्वकोश के अनुसार सोल इन्विक्टुस त्योहार क्रिसमस की तारीख के लिए होता है.

18. साल 1898 में Canada द्वारा स्टांप जरी किया गया इम्पीरियल पैसा डाक दर का उद्घाटन किया गया. इस स्टांप पर एक ग्लोब बना है और नीचे “ऐक्स्मस 1898” अंकित है.

Azab Gazab
source : mpbreakingnews

19. 6 दिसम्बर, 1999 को गनुलिन उनितेद स्टातेस (1999) के फैसले के अनुसार क्रिसमस दिवस की स्थापना और उसेकानूनी सार्वजनिक अवकाश के रूप में घोषित करना स्थापना खण्ड का उल्लंघन नहीं करता है क्योंकि यह एक वैध धर्मनिरपेक्ष उद्देश्य है.

20. ड्येडगूस के जाने के बाद जर्मनी में पहला आर्टिफीशियल क्रिसमस ट्री बनाया गया था. इसके अलावा हर साल सिर्फ अमेरिका में क्रिसमस के दिन 3 बिलियन ग्रीटिंग कार्डस भेजे जाते हैं.

21. यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हर साल 20,000 से ज्यादा किराये के सांता क्लॉज बनते हैं और हर घर में बच्चों को कैंडी और गिफ्टस् देते हैं.

यह भी पढ़ें : जानिए किस Azab Gazab तकनीक का प्रयोग करके शाहरुख खान हो गए बौने

 

Tags
Show More

Sneha Dubey

Sneha is Content Writer at Azab Gazab
Close
Close