Take a fresh look at your lifestyle.

भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार दिनेशलाल यादव कैसे बने भोजपुरिया लोगों के दिल की धड़कन

दिनेशलाल यादव के पिता सिर्फ 3500 रुपये में 7 लोगों का परिवार चलाते थे

भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता दिनेशलाल यादव उर्फ निरहुआ भोजपुरी सिनेमा के बहुत बड़े नाम हैं और ये भोजपुरी सिनेमा के सबसे महंगे सुपरस्टर में से एक हैं. दिनेश एक फिल्म की लिए अच्छी खासी पेमेंट लेते हैं पर एक वक्त ऐसा भी था, जब दिनेशलाल यादव के पिता सिर्फ 3500 रुपये में 7 लोगों का परिवार चलाते थे. दिनेश ने सुपरस्टार बनने से पहले काफी संघर्ष भरा जीवन जीया है.

दिनेश लाल यादव
jagran.com

3500 रुपये में चलता था 7 लोगों का घर

दिनेश यूपी में गाजीपुर के टंडवा गांव में रहते थे और बेहद ही गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं. पैसे कमाने के लिए दिनेश के पिता अपने दोनों बेटों दिनेश और प्रवेशलाल को लेकर कलकत्ता चले गए. इस दौरान वो अपनी पत्नी और तीन बेटियों को गांव में ही छोड़ गए थे. कलकत्ता में वो एक झोपड़पट्टी में अपने दोनों बेटों के साथ कई सालों तक रहे. इस दौरान वे मजदूरी कर 3500 रुपये कमाते थे. किसी तरह उन्होंने दिनेश को मलिकपुरा कॉलेज से बीकॉम तक की पढ़ाई पूरी करवाई.

दिनेश को गाने का था शौक

निरहुआ की मां के मुताबिक दिनेश को बचपन से ही संगीत का शौक था और वो कभी रियाज से नहीं चूकते थे. भैंसे चराते वक्त भी उनकी पीठ पर बैठकर गाने का रियाज़ करते थे. दिनेश के पिता चाहते थे कि दिनेश पढ़ लिखकर अच्छी नौकरी करे लेकिन वो एक्टर बनना चाहते थे.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Nirahua (@dineshlalyadav) on

दिनेश के मुताबिक उनके घर में बचपन से ही गायिकी का माहौल था. पिता जी और बड़े भाई गायक हैं. 2001 में जब वो गाँव गए उन्होंने गाने की तैयारी शुरू कर दी. उनका एलबम निरहुआ सटल रहे काफी हिट हुआ. जिसके कारण लोग उन्हें जानने लगे. इसके बाद प्रोड्यूसर सुधाकर पांडेय, दिनेश के घर गए. दिनेश को पहली फिल्म चलत मुसाफिर मोह लियो में काम करने का मौका मिला. इस फिल्म से उनकी चर्चा होने लगी.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Nirahua (@dineshlalyadav) on


माँ का सपना किया पूरा

दिनेश के मुताबिक उनकी मां का एक सपना था कि जिस झोपड़ी में वे पले बड़े हैं वहीं पर एक अच्छा घर हो. घर बनते देख मां बहुत खुश थी. इसके अलावा दिनेश कहते हैं कि उनको हिंदी फिल्मों से भी ऑफर मिला पर उनको स्क्रिप्ट पसंद नहीं आयी. वो कहते हैं की वो ऐसी फिल्मों में काम करना चाहते हैं जिससे उनके फैंस नाराज़ न हों.

भोजपुरी फिल्मों की कैटरीना कैफ से मिलिये, दीवाने हैं यूपी बिहार के लोग

Comments are closed.