Amitabh Bachchan: कभी आकाशवाणी से हुए रिजेक्ट, आज दमदार आवाज के बादशाह हैं

एक ऐसा अभिनेता जिसने फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखने के पहले नहीं सोचा होगा कि एक समय आएगा जब उसे सदी का महानायक की उपाधि दी जाएगी. महानायक…जी हां हम बात अमिताभ बच्चन की कर रहे हैं. जिसने हिंदी सिनेमा को एक से बढ़कर एक बेहतरीन सुपर हिट फिल्में दी हैं.

अमिताभ का जन्म इलाहाबाद में जन्म हुआ

ऊंची कद-काठी, दमदार आवाज और बेहतरीन एक्टिंग के दम पर आज अमिताभ बच्चन का नाम जिस मुकाम पर है, वहां पहुंचने का सपना हर एक्टर देखता है. इन्हें लोग बिग बी, अमित जी और बच्चन साहब कहकर भी बुलाते हैं. लेकिन क्या आप अपने महानायक के बारे में हर बात जानते हैं ? अमिताभ बच्चन का जन्म यूपी के इलाहाबाद में 11 अक्टूबर, 1942 को हिंदी के महान कवि हरिवंशराय बच्चन के घर हुआ था. अमिताभ अपने पिता से ज्यादा अपनी मां तेजी बच्चन के करीब रहे हैं. इनके एक छोटे भाई अजिताभ बच्चन हैं.

नैनीताल और फिर दिल्ली में पढ़ाई हुई

अमिताभ का नाम पहले इंकलाब रखा गया था. लेकिन उनके पिता के खास दोस्त रहे कवि सुमित्रानंदन पंत ने हरिवंशराय जी को अमिताभ नाम सुझाया था. अमिताभ की शुरुआती पढ़ाई नैनीताल के शेरवुड कॉलेज में हुई. इसके बाद आगे की पढ़ाई इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के करोड़ीमल कॉलेज से की. स्कूल हो या कॉलेज, अमिताभ पढ़ाई में हमेशा अव्वल ही रहे हैं. उनकी गिनती जीनियस बच्चों में की जाती थी. बचपन से उन्हे पढ़ाई की शिक्षा अपने माता-पिता से मिली.

अमिताभ बच्चन की शादी साल 1973 में अभिनेत्री जया भादुड़ी से हुई थी. इनके दो बच्चे अभिषेक बच्चन और श्वेता बच्चन हैं.

आकाशवाणी में हुए रिजेक्ट

अमिताभ को बॉलीवुड में एंट्री अपनी दमदार आवाज की वजह से ही मिली. साल 1969 में आई फिल्म ‘भुवन शोम’ में उन्होंने अपनी आवाज दी और यहीं से शुरु हुआ उनका फिल्मी करियर. हालांकि आवाज की वजह से ही अमिताभ को आकाशवाणी में काम नहीं मिला था, उनसे कहा गया कि आपकी आवाज इतनी मोटी है कि रेडियो पर अच्छी नहीं आएगी.

उसी साल अमिताभ की डेब्यू फिल्म सात हिंदूस्तानी भी आई. लेकिन फिल्म को रिस्पॉन्स नहीं मिला क्योंकि दर्शकों को फिल्म का हीरो नहीं जमा. ऊंचा कद आवाज में भारीपन और एक दुबला-पतला नौजवान, लोगों को बिल्कुल पसंद नहीं आया. इस बात का जिक्र अमिताभ बच्चन ने एक इंटरव्यू में किया था.

राजेश खन्ना के साथ काम किया

इसके बाद अमिताभ बच्चन ने सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ साल 1971 में आई निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म आनंद की. इस फिल्म में राजेश खन्ना की मौत ने लोगों को हिला दिया था. इसलिए अमिताभ पर नजर कम गई लेकिन फिल्म बहुत चली थी.

साल 1973 में आई निर्देशक प्रकाश मेहरा की फिल्म जंजीर ने अमिताभ बच्चन के करियर की पहली सुपरहिट फिल्म थी. इसमें इनका साथ जया भादुड़ी और प्राण ने दिया था. एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि इसी फिल्म से उनके पैरेंट्स को जया पसंद आ गयी थीं. फिल्म रिलीज के एक महीने बाद इनकी शादी भी हो गयी थी.

  • लगातार 17 फिल्में फ्लॉप रहीं

जंजीर की सफलता के बाद निर्देशक उनके घर के बाहर लाइन लगाकर खड़े रहते थे और एक के बाद एक फिल्म साइन करते गये और हिट पे हिट देते गये. वैसे तो अमिताभ बच्चन ने अपने 48 साल के फिल्म करियर में करीब 250 से ज्यादा फिल्मों में काम किया. जिनमें कुछ ब्लॉकबस्टर, कुछ सुपरहिट, कुछ हिट हैं लेकिन शुरुआती दौर में इनकी लगातार 17 फिल्में फ्लॉप रही.

इन्होंने डॉन, कूली, शहंशाह, शोले, मर्द, शराबी, हम, अजूबा, अमर अखबर एंथोनी, कभी खुशी कभी गम, वीर जारा, याराना, नसीब, मोहब्बतें, सुहाग, दीवार, लावारिस, मुकद्दर का सिकंदर, आज का अर्जुन, कालिया, गंगा यमुना सरस्वती, खुदा गवाह, सत्ते पे सत्ता, पा, नमक हलाल और पीकू जैसी फिल्मों में काम किया. इनमें कुछ ब्लॉकबस्टर और कुछ सुपर हिट साबित हुई थीं.

फिल्म कूली की शूटिंग में घायल हुए

फिल्म कूली की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन की जिंदगी में तूफान आया और वे जिंदगी-मौत के बीच खड़े थे. अमिताभ के अनुसार उनका पुर्नजन्म भगवान और उनके फैंस की दुवाओं की वजह से हुआ था.

अमिताभ बच्चन का नाम अभिनेत्री रेखा के साथ जुड़ चुका है. फिल्म सिलसिला के दौरान दोनों इतना नजदीक आये कि शादी तक की बात पहुंची. लेकिन जया बच्चन ने सब बहुत समझदारी से संभाला.

अमिताभ को मिले अवॉर्ड्स

अमिताभ बच्चन को 5 फिल्मफेयर, 3 नेशनल, पद्मभूषण, पद्मविभूषण और पद्मश्री अवार्ड्स से नवाजा जा चुका है. इसके अलावा इन्हें स्टारस्क्रीन, जी सिने, गिल्ड, स्टारडस्ट जैसे कई अवार्ड्स मिले.

90 के दशक में एक दौर ऐसा भी आया जब अमिताभ को काम मुश्किल से मिलता था. बहुत सी परेशानियां झेलने के बाद साल 2001 में क्विज शो कौन बनेगा करोड़पति में होस्ट बनकर आए और एक बार फिर छा गये.

जगजीत सिंह : चिट्ठी न कोई संदेश, जाने कौन सा देश जहां तुम चले गये