NCRB ने जारी की 2020 की रिपोर्ट, हत्या और दलितों के खिलाफ सबसे अधिक आपराधिक मामले यूपी में दर्ज

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) ने 15 सितंबर को 2020 में हुए अपराधों का डेटा जारी कर दिया है. साल 2019 के मुकाबले साल 2020 में क्राइम रेट में 28 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. साल 2019 में कुल 51,56,158 आपराधिक मामले दर्ज हुए थे वहीं साल 2020 में 66,01,285 मामले दर्ज हुए.

इस रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में हर दिन औसतन 80 हत्याएं हुई हैं. सबसे ज्यादा हत्याएं उत्तर प्रदेश में हुई हैं. हालांकि देश में अपहरण, महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध के मामले पिछले साल की तुलना में कम हैं.

साल 2020 में करीब 30 हजार हुई हैं हत्याएं

NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में देशभर में कुल 29,193 मर्डर हुए. साल 2019 में 28,915 लोगों की हत्या हुई थी. देश में सबसे ज्यादा 10,404 लोगों की हत्या आपसी रंजिश की वजह से हुई है. वहीं 3,034 हत्याएं पुरानी दुश्मनी की वजह से हुईं. हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर है. प्रदेश में पिछले साल 3,779 हत्याएं हुई थीं. दूसरे नंबर पर बिहार (3,150), तीसरे पर महाराष्ट्र (2,163), चौथे पर मध्य प्रदेश (2,101) और पांचवे पर पश्चिम बंगाल (1,948) है.

साल 2020 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,71,503 मामले दर्ज

साल 2020 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल 3,71,503 केस दर्ज हुए. वहीं साल 2019 में 4,05,326 मामले दर्ज हुए थे. महिलाओं के खिलाफ अपराध के 30 प्रतिशत मामले पति या उनके रिश्तेदार द्वारा प्रताड़ित करने के थे. 16.8 प्रतिशत मामला अपहरण का और 7.5 प्रतिशत मामले रेप के थे.

रेप के मामले में राजस्थान पहले नंबर पर है. पिछले साल राज्य में 5,310 रेप के मामले दर्ज हुए थे. दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश (2,769), तीसरे स्थान पर मध्य प्रदेश (2,339), चौथे स्थान पर महाराष्ट्र (2,061) और पांचवें नंबर पर असम (1,657) है.

Source-ET

अगर महिलाओं के खिलाफ अपराध की बात करें तो महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध यूपी (59,853) में दर्ज हुआ है. वहीं दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल (36,439), तीसरे नंबर पर राजस्थान (34,535), चौथे नंबर पर महाराष्ट्र (31,954) और पांचवे नंबर पर असम (26,352) है.

बच्चों के खिलाफ अपराध के 38.8 प्रतिशत मामले यौन हिंसा के

एनसीआरबी रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में बच्चों के खिलाफ अपराध के 1,28,531 मामले दर्ज हुए. इनमें सबसे ज्यादा मामले अपहरण के थे. वहीं बच्चों के खिलाफ यौन हिंसा के मामले 38.8 प्रतिशत है. बच्चों के खिलाफ आपराधिक मामले में पहले नंबर पर मध्य प्रदेश है. राज्य में 17,008 मामले दर्ज हुए. वहीं दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश (15,271) तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र (14,371) चौथे नंबर पर पश्चिम बंगाल (10,248) और पांचवे नंबर पर बिहार (6,591) है.

Source- The Logical Indian

दलितों के खिलाफ सबसे अधिक आपराधिक मामले उत्तर प्रदेश में दर्ज

साल 2020 में दलितों के खिलाफ अपराध के मामलों में वृद्धि हुई है. पिछले साल 50,291 मामले दर्ज हुए. सबसे ज्यादा दलितों के खिलाफ अपराध के मामले उत्तर प्रदेश (12,714) में दर्ज हुए हैं. इसके बाद बिहार (7,368), राजस्थान (7017), मध्य प्रदेश (6,899) और महाराष्ट्र (269) है.

आदिवासियों के खिलाफ भी बढ़े हैं आपराधिक मामले

NCRB रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में आदिवासियों के खिलाफ अपराध के 8,272 मामले दर्ज हुए हैं. वहीं साल 2019 में आदिवासियों के खिलाफ आपराधिक मामले 7,570 मामले दर्ज हुए थे. आदिवासियों के खिलाफ सबसे ज्यादा आपराधिक मामले मध्य प्रदेश (2,401) में दर्ज हुए हैं.

Time Magazine ने 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में पीएम नरेंद्र मोदी, सीएम ममता बनर्जी और अदार पूनावाला को किया शामिल