अग्नि 5 बैलिस्टिक मिसाइल क्या है, Agni-V की मारक क्षमता, रेंज, वजन जानिये

भारत अब तक कुल 7 बार अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण कर चुका है. जिनकी रेंज करीब 5000 किलोमीटर तक है. हाल ही में ख़बर आ रही थी कि परमाणु हथियारों को लेकर जाने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण हो सकता है, जिसे DRDO ने खारिज कर दिया है. आज हम आपको अग्नि-5 मिसाइल से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताएंगे.

अग्नि-5 की खासियत

  • अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल की लंबाई 17 मीटर और चौड़ाई 2 मीटर है. इसका वजन तकरीबन 50 टन है. इस मिसाइल की अधिकतम गति 29 हजार किलोमीटर प्रति घंटा है.
  • अग्नि-5 भारत की पहली इंटर कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) है.
  • इस मिसाइल का निर्माण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने किया है.
  • अग्नि-5 मिसाइल की मारक क्षमता रेंज 5 हजार किलोमीटर है. इसके अलावा यह बैलिस्टिक मिसाइल एक साथ कई हथियारों को ले जाने में सक्षम है.
  • अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल मल्टिपल इंडिपेंडेंटली टार्गेटेबल रीएंट्री व्हीकल (MIRV) से लैस है. सीधे शब्दों में इसका मतलब यह है कि यह मिसाइल एक साथ कई टार्गेट को निशाना बना सकती है.
  • यह मिसाइल 1500 किलोग्राम तक का न्यूक्लियर हथियार अपने साथ ले जा सकती है.
  • इस बैलिस्टिक मिसाइल की गति आवाज की स्पीड से 24 गुना ज्यादा यानी मैक 24 है.
  • मिसाइल के आवाजाही के लिए कैनिस्टर तकनीक का प्रयोग किया गया है.
Source- The Stateman

अग्नि मिसाइल की पांचवी सीरीज (Agni-5)

  • भारत ने 22 मई साल 1989 में अग्नि-1 का सफल परीक्षण किया था. इस मिसाइल की रेंज 700 किलोमीटर थी.
  • अग्नि-2 का परीक्षण 11 अप्रैल साल 1999 में किया गया था. इसकी मारक क्षमता रेंज 2000 किलोमीटर थी.
  • 9 जुलाई साल 2006 में भारत ने अग्नि-3 का सफल परीक्षण किया. इस मिसाइल की रेंज 3000 किलोमीटर थी.
  • 10 दिसंबर साल 2010 में अग्नि-4 का परीक्षण किया गया. इसकी रेंज 4000 किलोमीटर थी.
  • अग्नि-5 का पहला सफल परीक्षण 19 अप्रैल साल 2012 को उड़ीसा में किया गया था. जनवरी साल 2015 में अग्नि-5 मिसाइल का पहला कैनिस्टर टेस्ट किया गया. तब इसे रोड मोबाइल लॉन्चर के जरिए लॉन्च किया गया था. 10 दिसंबर साल 2018 को मिसाइल का आखिरी टेस्ट किया गया. अग्नि-5 के किए गए सारे परीक्षण सफल हुए हैं.

पाकिस्तान और चीन की मिसाइलों की रेंज

पाकिस्तान की मिसाइल गौरी-2 की रेंज 2300 किलोमाटर और शाहीन-2 मिसाइल की रेंज 2500 किलोमीटर है. चीन की DF-31 मिसाइल की रेंज 8000 किलोमीटर और DF-41 की रेंज 12000 किलोमीटर है.

Source- Patrika

अभी तक केवल 8 देशों के पास है इंटर कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल

अभी तक इस तकनीक से लैस मिसाइल केवल 8 देशों के पास है. यह देश रूस, अमेरिका, चीन, फ्रांस, इजरायल, इंग्लैंड, चीन और उत्तर कोरिया है.

भारत की बढ़ती ताकत से बौखलाया चीन

अग्नि-5 मिसाइल को लेकर चीन पहले ही अपनी नाराजगी जता चुका है. चीन की राजधानी बीजिंग में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दक्षिण एशिया के देश आपसी शांति, सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखें, इसी में सबका हित है. उम्मीद है कि सभी पक्ष इस दिशा में रचनात्मक प्रयास करेंगे. भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1172 के तहत न्यूक्लियर हथियार ले जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइलों का निर्माण नहीं कर सकता है.

Missile Tracking Ship Dhruv: समुद्र से दुश्मनों पर नजर रखेगा ध्रुव, भारत की पहली मिसाइल ट्रैकिंग शिप

ऑस्ट्रेलिया, यूके और यूएसए के बीच हुआ AUKUS समझौता क्या है, क्या होती है परमाणु पनडुब्बी