Take a fresh look at your lifestyle.

ज़रूर पढ़ें Cardiac Arrest से जुड़ी ये जानकारी, बच सकती है आपके अपनों की जान

Cardiac Arrest से जुड़ी ये जानकारी आपके अपनों के लिए है बहुत अहम

Cardiac Arrest आज के समय में एक गंभीर समस्या बन गया है और इसके चलते न जाने कितने लोग समय से पहले ही अपनी जान गवा बैठते हैं. Cardiac Arrest जैसी बड़ी समस्या के बारे आज के समय में लोगों को पूरी तरह से अवगत होना चाहिए ताकि आपका कोई भी अपना समय से पहले अपनी जान न गवाए. कार्डिएक अरेस्ट तब होता है जब आपका दिल अचानक आपके शरीर में रक्त को पंप करना बंद कर देता है, जब आपका दिल रक्त पंप करना बंद कर देता है, तो आपका मस्तिष्क ऑक्सीजन का भूखा होता है. इससे इंसान बेहोश हो जाता है और उसकी साँसे रुक जाती हैं.

Cardiac Arrest
Iran daily

अमेरिका में रहने वाले एक भारतीय डाक्टर ने एक जांच प्रणाली विकसित की है, जिसकी मदद से आईसीयू में भर्ती मरीज के कार्डिक अरेस्ट का पहले से ही पता चलाया जा सकता है. कुछ सामान्य जांच जैसे बीपी, हर्ट रेट, रेस्पीरेटरी रेट और बॉडी टेम्परेचर की मदद से आसानी से आने वाले कार्डिक अरेस्ट की जानकारी हो जाती है.

आपको बता दें कि डॉक्टर पंचला स्वामी मितदोडला ने अमेरिका में पहली बार क्रिटिकल केयर मेडिसिन के क्षेत्र में मोडिफाईड अर्ली वार्निंग स्कोर पर मौलिक काम किया है. यह एक तरह का आसान स्क्रीनिंग उपकरण है, जो एक साधारण विधि से आईसीयू में भर्ती मरीज के कार्डिक अरेस्ट की सूचना दे देता है. जब यह पता चल जाता है, तो आसानी से पहले से ही सिस्पांस टीम को इत्तला कर दिया जा सकता है, जिससे मरीज को कोई दिक्कत हो तो पहले से ही उसके इलाज व जांच की तैयारी की जा सके. डॉक्टर मित्तोडोडला का रिसर्च प्रतिष्ठित अमेरिकी जर्नल ऑफ रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है, जिसके बाद से उनके कार्य की पूरे अमेरिका में काफी प्रशंसा हो रही है. फ़िलहाल डॉ मितदोडला रोजर्स में मर्सी अस्पताल में आईसीयू (गहन देखभाल इकाई) के मेडिकल डायरेक्टर हैं.

इसे भी पढ़ें- भोजपुरी सुपर स्टार दिनेश लाल यादव और आम्रपाली ने एक बार फिर मचाया धमाल

Comments are closed.