कोरोना के बाद अब आया फ्लोरोना, क्या है ये नई बीमारी? जानिए सबकुछ

विश्व में बढ़ते ओमिक्राॅन (Omicron) के मामलों के बीच फ्लोरोना (Florona) नाम की एक नई बीमारी चिन्ता का नया विषय बनकर उभरी है. हाल ही में इजरायल में एक महिला में इस बीमारी को पाया गया है. हालाँकि एक्सपर्ट्स ने इस बात की पुष्टि की है कि ये कोरोना (Corona) का नया वेरिएंट (new variant) नहीं बल्कि कोरोना वायरस और इन्फ्लूएंजा वायरस के एक साथ अटैक करने से डबल इंफेक्शन का मामला है.

इजरायल में मिला पहला केस

आपको बता दें कि 23 दिसंबर को इजराइल के पेटा टिकवा शहर में फ्लोरोना का पहला मामला सामने आया था. इस बीमारी से ग्रसित महिला ने हाल ही में एक बच्चे को जन्म दिया था. इस महिला का अभी तक टीकाकरण नहीं हुआ था और उसमें बीमारी के हल्के लक्षण दिखाई दे रहे थे.

क्या है फ्लोरोना?

कोरोना और फ्लु को जोड़कर फ्लोरोना शब्द को बनाया गया है. जब किसी व्यक्ति को कोरोना वायरस और फ्लु एक साथ अटैक करते हैं, तो वह व्यक्ति एक साथ दोनों बीमारियों से ग्रसित हो जाता है. उसमें कोरोना और इंफ्लुएन्जा जैसे दोनों वायरस के लक्षण देखने को मिलते हैं.

यह कुछ हद तक डेल्मिक्राॅन (Delmicron) के जैसा ही है. किसी व्यक्ति पर जब कोरोना के डेल्टा (Delta) और ओमिक्राॅन (Omicron) वेरिएंट एक साथ अटैक करते हैं, तो उस व्यक्ति में एक साथ दोहरा संक्रमण देखने को मिलता है. ठीक उसी तरह फ्लोरोना में भी कोरोना और फ्लु का दोहरा संक्रमण देखने को मिल रहा है.

Flurona
Flurona

इजरायल का स्वास्थ्य मंत्रालय इस मामले पर और भी गहन अध्ययन कर रहा है. यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि दोनों वायरसों का संक्रमण इंसान के लिए कितना खतरनाक हो सकता है.

क्यों है चिन्ता का विषय

वर्तमान में मौजूदा डेटा से ये अनुमान लगाया जा रहा है कि फ्लोरोना निमोनिया और श्वास संबंधी अन्य गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है. इस परिस्थिति में यदि चिकित्सा या देखभाल के अभाव में लोगों की मौत भी हो सकती है. एक्सपर्ट्स ने डेल्मिक्राॅन के संक्रमण को भी चिन्ता का विषय बताया है, जिसके कारण यूएस और यूरोप में कोरोना के मामलों में भारी उछाल देखा गया है.

क्या हैं इसके लक्षण ?

फ्लोरोना के लक्षण कोरोनावायरस और फ्लु वायरस के समान ही होते हैं. शरीर में उच्च तापमान, गंध या स्वाद का चला जाना, लगातार खांसी, गले में खराश, सिरदर्द और नाक बहना इसके मुख्य लक्षण में से पाया गया है.

क्या है इसका इलाज ?

इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके इलाज के लिए फ्लु के टीके लगाने की सलाह दी है. इजरायली सरकार ने इसके साथ-साथ COVID-19 के टीके को भी लेने के लिए आग्रह किया है. आपको बता दें कि ये बीमारी मिलने के बाद इजरायल ने तुरन्त वहाँ के लोगों के लिए चौथे बूस्टर डोज का भी ऐलान कर दिया है. इसके साथ ही इजरायल कोविड-19 वैक्सीन का चौथा डोज लगाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है.

ये भी पढ़ें :

Best Mask for Covid : कोरोना वायरस से बचाव के लिए कौन सा मास्क सही है?

Child Vaccine Registration : शुरू हो गया रजिस्ट्रेशन, घर बैठे आसानी से बुक करें स्लाॅट, 10 जनवरी से लगेगा बूस्टर डोज