FactsNews

देश की सबसे लंबी सुरंग में लगे हैं 124 CCTV कैमरे, करोड़ों के फ्यूल की होगी बचत

भारत देश अब दुनिया के अऩ्य देशों की तुलना में आगे बढ़ता जा रहा है. सबसे लंबी सुरंग की सौगात के बाद भारत का कद और बढ़ गया है. जी हां हम बात कर रहे हैं चेनानी-नशरी टनल की. यह देश की सबसे लंबी सुरंग है. इस सुरंग में ऐसी कई खूबियां हैं जिन्हें आप नहीं जानते होंगे.

इसे भी पढ़ें: ये है दुनिया की सबसे खूबसूरत नदी, जो हर मौसम में बदलती है अपने रंग

1. चेनानी-नशरी सुरंग को पत्नीटॉप सुरंग के नाम से भी जाना जाता है. यह सुरंग 1200 मीटर की उंचाई पर स्थित है. इसे निचली हिमालय पर्वत श्रृंखला में बनाया गया है.

2. यह सड़क सुरंग जम्मू- कश्मीर के नेशनल हाईवे-44 पर स्थित है. इसका कार्य 2011 में शुरू हुआ था और 2 अप्रैल 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका उद्घाटन किया.

3. इस सुरंग की लंबाई 9.28 किमी है. इसके निर्माण में 3,720 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं.

इसे भी पढ़ें: इस देश में भुखमरी से मची है तबाही, अब भी भूख से तड़प रहे हैं 2 करोड़ लोग

4. ये ट्विन ट्यूब सुरंग है. अगर मुख्य सुरंग में किसी तरह की दिक्कत आती है तो इमरजेंसी के लिए इसके समानांतर एक और सुरंग बनाई गई है. इसके अलावा दुनिया में मौजूद बेहतरीन सेफ्टी फीचर्स का भी इस्तेमाल किया गया है.

5. सुरंग में हर 75 मीटर पर हाई रेजोल्यूशन के 124 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं.

6. पांच मीटर से ऊंचे वाहन सुरंग से नहीं गुजर सकेंगे. मोबाइल नेटवर्क की फैसिलिटी भी है.

7. इस मार्ग से राज्य की दो राजधानियों जम्मू और श्रीनगर के बीच सफर में ढाई घंटे कम समय लगेगा.

8. यह भारत की पहली सुरंग है जिसमें ‘इंटीग्रेटेड टनल कंट्रोल सिस्टम’ लगाया गया है. जिससे हवा के आवागमन, आग से बचाव, सिग्नल, संचार और बिजली की व्यवस्था स्वचालित तरीके से काम करेगी.

9 सड़क मार्ग से चेनानी और नशरी के बीच की दूरी 41 किलोमीटर के बजाए अब 10.9 किमी रह जाएगी.

इसे भी पढ़ें: मुंह के छालों के लिए अचूक दवा है करेला, सिरदर्द में भी फायदेमंद

10. इसके ऑपरेशन की जिम्मेदारी नेशनल हाईवे अथॉरिटी संभालेगी.

11. खास बात ये है कि घाटी में स्नोफॉल के दौरान भी इस सुरंग के ऑपरेशन पर कोई दिक्कत नहीं होगी.

12. सुरंग से हर साल करीब 99 करोड़ रुपए के फ्यूल की बचत होगी. साथ ही रोज करीब 27 लाख का फ्यूल बचने की संभावना है.

इसे भी पढ़ें: ये है एशिया का सबसे स्वच्छ गांव, साक्षरता में भी है अव्वल

 

Tags
Show More
Close
Close