दमकल गाड़ियों की शुरुआत कैसे हुई थी, इसका रंग लाल क्यों होता है?

जहाँ कहीं भी आग लगती है, दमकल गाड़ियां आपात स्थिति में जल्दी से मौका ए वारदात पर पहुँचकर आग बुझाने का काम करती हैं. जैसे ही ये हमारे सामने आती है, हम सभी इसे रास्ता दे देते हैं. ताकि ये जल्दी से पहुँचने आग वाले स्थान पर पहुँच सके. इन गाड़ियों के रंग को ज्यादातर देशों में लाल ही रखा गया है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर इनका रंग लाल ही क्यों होता है? या फिर इसकी शुरूआत कैसे हुई थी?

इसके पीछे कई वैज्ञानिक और व्यवहारिक कारण है. आज हम आपको बताएंगें इन्हीं कुछ कारणों को जिनके कारण आग बुझाने वाली गाड़ियां अस्तित्व में आईं और इनके रंग को लाल रखा गया.

कैसे हुई दमकल गाड़ियों की शुरूआत?

Fire Engine
A 1940S CFA FIRE ENGINE PHOTO AT THE FIRE SERVICES MUSEUM OF VICTORIA

साइंस पोर्टल Technology.org के अनुसार, 19वीं सदी के अंत तक आग बुझाने के लिए अलग से कोई गाड़ियां या नौकरी पर रखे हुए लोग नहीं होते थे. यह एक सामुदायिक काम होता था. क्योंकि आग बहुत तेजी से फैलता है, इसलिए ये सबकी जिम्मेदारी होती थी कि सब मिलकर इसे बुझाएं. लेकिन जैसे-जैसे शहरों का विकास हुआ लोग इससे तेजी निपटने के लिए वोलिंटियर्स (Volunteers) रखने लगे और इस तरह से फायर फाइटर ब्रिगेड बनाई गई.

सस्ता होता था लाल रंग

Fire Engines
Fire Fighter vehicles in 1900s kept at a museum

फायर फाइटर ब्रिगेड तो बना दी गई लेकिन उन्हें नियमित रूप से चलाने के लिए फायर डिपार्टमेंट के पास बहुत पैसा नहीं होता था. इसलिए वे सस्ता से सस्ता सामान इस्तेमाल करने की कोशिश करते थे. उस जमाने में लाल रंग सभी रंगों में सबसे सस्ती हुआ करती थी. इसलिए इस रंग को चुना गया.

स्टैंड आउट कलर होता था लाल रंग

इस रंग को चुनने के पीछे दूसरा कारण ये बताया जाता है कि सन 1900 में फायर इंजन को लाॅन्च किया गया था. technology.org के अनुसार, उस दौरान अमेरिका में अधिकतर लोगों के पास फोर्ड की गाड़ियां हुआ करती थी.

फोर्ड अपनी गाड़ियों को सुन्दर बनाने के लिए केवल काले रंग का इस्तेमाल करता था. इसलिए लोगों ने लाल रंग को चुना ताकि दूर से ही फायर फाइटर्स की गाड़ीयों को पहचाना जा सके, जिससे उसका रास्ता ना रुके और वो समय से अपने स्थान पर पहुँच जाएं.

आपातकाल का प्रतीक

Fire Brigade vehicle
Fire Brigade vehicle Mumbai

लाल रंग को इमरजेंसी का प्रतीक माना जाता है. इसलिए किसी भी आपात स्थिति वाले चीजों का रंग लाल ही रखा जाता है. उदाहरण के तौर पर एंबलुेंस की लाल बत्ती, खतरे का निशान इत्यादि. आग लगने से खतरे और आपात की स्थिति पैदा होती है, इसलिए दमकल गाड़ियों के रंग को लाल रखा गया है.

अब हरे और पीले रंग में भी आने लगी हैं दमकल गाड़ियां

हालाँकि दूर से ही आँखों को पहचान में आ जाने और स्टैंड आउट वाली लाल रंग की थ्योरी अब वैध नहीं रही. क्योंकि आज के जमाने में विभिन्न रंग की गाड़ियां सड़कों पर हैं. जिनमें से कई गाड़ियां लाल रंग की होती है.

इसके अलावा वैज्ञानिकों भी प्रमाणित कर चुके हैं कि रात में चमकीले पीले या हरे रंग को नोटिस करना लाल के मुकाबले ज्यादा आसान होता है. इसलिए अब कई देशों में दमकल गाड़ियों की रंग को हरे और पीले रंग में भी रखा जाने लगा है.

ये भी पढ़ें :

1 जनवरी 2022 से 10 साल पुरानी कारों का रजिस्ट्रेशन होगा रद्द, जानिए क्या है नया आदेश

शाहजहां ने क्यों कराया था लाल किले का निर्माण, जानिये क्या है पूरा इतिहास