Take a fresh look at your lifestyle.

जब अनिल कुंबले ने अकेले ही पाकिस्तान को धराशायी कर दिया था

अनिल कुंबले ने अपनी गेंदों के जादू से अकेले ही पूरे पाकिस्तान को पस्त कर दिया था.

7 फरवरी को वैसे तो मोहब्बत के मौसम की शुरुआत का दिन माना जाता है लेकिन क्रिकेट के इतिहास में सात को एक बड़ी घटना के रूप में भी याद किया जाता है. सात फरवरी को भारतीय क्रिकेट टीम के जंबो कहे जाने वाले अनिल कुंबले ने अकेले ही पूरी पाकिस्तानी टीम के बल्लेबाजों को धराशाही कर दिया था.

अनिल कुंबले ने
Source-Inext Live

साल 1999 में सात फरवरी का वह दिल्ली में भारत और पाकिस्तान के बीच खेला जा रहा टेस्ट मैच क्रिकेट के इतिहास में दर्ज हो गया था.

अनिल कुंबले ने दिल्ली टेस्ट मैच की चौथी इनिंग में 26.4 ओवर गेंदबाजी में 74 रन देकर पाकिस्तान के सभी विकेट अपनी नाम पर दर्ज कराए थे. 10 विकेटों के इस खेल में उन्होंने 9 मेडेन ओवर भी फेंके थे.

टेस्ट सीरीजः

साल 1999 में पाकिस्तानी क्रिकेट टीम भारत में दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलने भारत आई थी. इस सीरीज में भारत का नेतृत्व मुहम्मद अजहरुद्दीन के हाथों में था.

Source-India TV

पहला टेस्ट मैच चेन्नई में खेला गया था जिसमें पाकिस्तान ने जीत हासिल करके भारतीय टीम को दबाव में ला दिया था. सचिन तेंदुलकर के द्वारा बनाए गए 136 रन भी भारत की हार को टाल नहीं सके थे.

दूसरा टेस्ट मैच दिल्ली में शुरु हुआ था जहां भारत के पास सिर्फ करो या मरो का ही विकल्प था. दूसरे टेस्ट मैच में सदागोपण राव और सौरव गांगुली के अर्धशतकों के बाद भारत किसी तरह पाकिस्तान को 420 रनों का लक्ष्य अंतिम इनिंग के लिए दे पाया. यह एक बड़ा लक्ष्य माना जा रहा था.

पाकिस्तान का जवाबः

बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम ने सईद अनवर और शाहिद अफरीदी के नेतृत्व में बिना विकेट खोए हुए 101 रन बनाकर भारतीय टीम के खेमे में हलचल मचा दी थी.

Source-DNA India

पहला विकेटः

शानदार शुरुआत के बाद अनिल कुंबले ने शाहिद अफरीदी का पहला विकेट दिलाकर उम्मीदें जगाईं. इसके बाद अनिल कुंबले ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक-एक करके पाकिस्तान के बल्लेबाजों को धराशाही करने लगे.

दोस्ती की मिसाल

पाकिस्तान के नौ विकेट अनिल कुंबले के नाम पर थे और अंतिम पाकिस्तानी जोड़ी क्रीज पर थी. भारतीय टीम के जवागल श्रीनाथ गेंदबाजी के छोर पर थे.

विशेषज्ञों के अनुसार जवागल चाहते तो उसे कभी भी आउट कर सकते थे लेकिन अपने दोस्त या साथी को इतिहास रचते कौन नहीं देखना चाहता. जवागल श्रीनाथ ने उस ओवर में विकेट न लेने के लिए वाइड गेंदें भी फेंकी थीं.

इतिहास रचा

एक गेंद, एक विकेट और फिर अनिल कुंबले ने वो इतिहास रचा जिसके लिए आज भी कई गेंदबाज तरसते रहते हैं. इसी के साथ अनिल कुंबले ने इतिहास में अपने लिए एक अलग जगह बना ली थी.

अनिल कुंबले से पहले यह कमाल सिर्फ इंग्लैंड के स्पिनर जिम लेकर (Jim Laker) ने ही किया था.

यह भी पढ़ेंः https://azabgazab.com/rajnish-osho-interesting-facts/

Comments are closed.