Take a fresh look at your lifestyle.

दवाईयां क्या सच में EXPIRY होती हैं ? दवाईयों के बारे में कुछ खास बातें

दवाईयों के EXPIRY Date पर हुआ अध्ययन

दवाईयां एक मात्र ऐसी चीज़ है, जिनकी हमें हर आये दिन जरुरत पड़ती रहती है, चाहे बीमारी छोटी हो या बड़ी हमें दवाईयों की जरूरत पड़ती है. ऐसे में ये जानना तो बहुत जरुरी है कि ये दवाई आपकी सेहत के लिए ठीक है कि नहीं. हम आपको बताते हैं दवाईयों की expiry के बारे में विस्तार से .

दवाइओं की शक्ति उस पल से कम होना शुरू हो जाती है, जब इसे बनाया जाता है, इसे ‘ड्रग डिके’ (दवा का क्षय) कहा जाता है. इसलिए आपकी दवा किसी समय भी इस्तेमाल के लायाक होती है.

दवा की क्षमता और सुरक्षा

रेगुलेशन ये तय करता है कि दवा पर वो तारीख लिखी होनी चाहिए जो उस बात को तय करता है कि दवा पर क्षमता या दवा के असर के खत्म होने की तारीख लिखी होनी चाहिए,जो उस तारीख को बताता है. जिसके लिए निर्माता दवा की पूरी क्षमता और सुरक्षा की गारंटी देता है.

medical theory

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन का अध्ययन

बता दें कि अमेरिकी सेना के अनुरोध पर  यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने दवा को लेकर एक अध्ययन किया था. जिससे ये पता चला “प्रेस्किप्शन पर और खुले बाजार में, दोनों तरह से बिकने वाली 100 से अधिक दवाओं में 90 फीसद से अधिक, एक्सपायरी डेट के 15 साल बाद भी मूल क्षमता को बनाए रखते हुए इस्तेमाल के लिए पूरी तरह से ठीक थीं.”

 

बेस्ट बिफोर यूज का लेबल

कहा जाता है कि, “बेस्ट बिफोर यूज (इस तारीख से पहले इस्तेमाल करें)” लेबल में बहुत मामूली थ्योरी है, इसलिए सिर दर्द, एसिडिटी, ठंड या कब्ज के लिए, बिना किसी आशंका के एक्सपायर हो चुकी गोली ले सकते हैं. बहुत कम मौको को छोड़कर आपको शायद ही कोई नुकसान हो और आश्वस्त रहें कि दवा नुकसान भी करेगी तो निश्चित रूप से जहर नहीं बनेगी.

ये भी पढ़ें:- Brain washing क्या होता है ? क्या इससे काबू किया जा सकता है इंसान

Comments are closed.