Take a fresh look at your lifestyle.

ये हैं स्मोकिंग के वो Myth और Facts जिनके बारे में लोग अक्सर सोचते हैं

स्मोकिंग से हर साल दुनिया में लाखों जानें जाती हैं. WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में हर साल लगभग 64 लाख लोगों की जान चली जाती है. इन 64 लाख लोगों में भारत के 9 लाख लोग शामिल हैं. इसकी गंभीरता को देखते हुए ही WHO ने वर्ल्ड नो टोबेको डे मनाने का फैसला किया था और लोगों को इसके बारे में जागरूक करने का फैसला किया.

आमतौर पर लोगों को स्मोकिंग के बारे में कुछ गलत-फहमियां होती हैं. इनमें से सबसे ज्यादा प्रचलित हैं कि अगर अच्छी डाइट ली जाए तो स्मोकिंग नुकसान नहीं करती है. लेकिन ऐसा सच नहीं है. आज हम आपको इससे जुड़े 5 ऐसे तथ्य बता रहे हैं जिनके बारे में लोग गलत सोच रखते हैं.

स्मोकिंग
Image: The Indian Express

स्मोकिंग से जुड़े मिथ एंड फैक्ट्स

भ्रम 1 – सिगरेट पीने के साथ अगर हेल्दी डाइट ली जाए तो इससे नुकसान नहीं होता है.

सच – जानकारी के लिए बता दें कि सिगरेट का सीधा आपके फेफड़ों पर पड़ता है. इसका आपकी डाइट से कोई लेना-देना नहीं है. इसलिए अगर आप हेल्दी भी ले रहे हैं तो भी सिगरेट नुकसान करती है.

भ्रम 2 – लाइट या माइल्ड सिगरेट ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाती है

सच – कई स्टडीज में ये देखा गया है कि लाइट सिगरेट पाते समय बहुत से लोग तेजी से धुंआ खींचते हैं. इससे लाइट सिगरेट भी उतना ही नुकसान करती है, जितना रेगुलर सिगरेट करती है.

भ्रम 3 – ई-सिगरेट नुकसान नहीं पहुंचाती है

Image: Kyiv Post

सच – कई शोधों के अनुसार ई-सिगरेट भी नॉर्मल सिगरेट की तरह ही नुकसान करती है. इसमें भी वैसे ही हार्मफुल केमिकल्स होते हैं. इससे भी आपको कैंसर होने की संभावना होती है.

भ्रम 4 – सिगरेट में मौजूद सिर्फ निकोटिन और टार ही नुकसान पहुंचाते हैं

सच – आपको बता दें कि सिगरेट में सिर्फ निकोटिन और टार ही नहीं होता. इन दोनों के अलावा इसमें एरोमेटिक हाइड्रोकार्बन जैसे कई और बेहद खतरनाक केमिल्स होते हैं. इन केमिकल्स की वजह से ही कैंसर जैसी बीमारी होती है.

भ्रम 5 – अगर सिगरेट की मात्रा कम कर दी जाए तो फिर इससे नुकसान नहीं होगा

सच – आप दिन में चाहे एक सिगरेट पिएं या दो, इससे लंग्स को नुकसान पहुंचता है. सिगरेट की मात्रा कम करने से तलब और बढ़ जाती है. इसका एक मात्र उपाय ये है कि आप स्मोकिंग को अचानक ही छोड़ दें.

Comments are closed.