पहली बार विधायक बने भूपेंद्र पटेल बने गुजरात के नये मुख्यमंत्री, पाटीदार समुदाय की नाराजगी से बदलना पड़ा सीएम

पहली बार विधायक बने भूपेंद्र पटेल ने गुजरात (Gujarat) के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है. शनिवार को विजय रुपाणी ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था, जिसके बाद रविवार को भूपेंद्र पटेल विधायक दल के नेता चुने गये. भूपेंद्र पटेल (Bhupendra Patel) अहमदाबाद के घाटलोडिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं. वह साल 2017 में चुनाव जीतकर पहली बार विधानसभा पहुंचे थे.

बीजेपी से नाराज हैं पाटीदार समुदाय के लोग

गुजरात की राजनीति में पाटीदार समुदाय का अहम योगदान है. राज्य के 182 सीटों में से 71 सीटों पर इस समुदाय का प्रभुत्व है. पिछले कुछ समय से पाटीदार बीजेपी से नाराज चल रहे हैं. जिसका खामियाजा बीजेपी को साल 2017 के विधानसभा चुनाव में देखने को मिला. बीजेपी को केवल 99 सीटें मिली थीं वहीं साल 2012 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 115 सीटों पर जीत हासिल की थीं. ऐसा माना जा रहा है कि पाटीदारों को खुश करने के लिए भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है. वह पाटीदार समाज के नेता भी हैं.

bhupendra patel
Source- The Financial Express

खबरों के मुताबिक बीजेपी के वरिष्ठ नेता और गुजरात के प्रभारी भूपेंद्र यादव और पार्टी के संगठन महासचिव बीएल संतोष ने पिछले कुछ महीने पहले गुजरात में पार्टी की स्थिति पर विचार-विमर्श किया था. सूत्रों के मुताबिक विजय रुपाणी गुजरात के बड़े नेता नहीं हैं और न ही बीजेपी ने उन्हें गुजरात के स्थाई सीएम के तौर पर देखा. आरआरएस के प्रमुख मोहन भागवत के गुप्त दौरे में मिले फिडबैक के बाद विजय रुपाणी का सत्ता से जाना कन्फर्म हो गया. खबरों के मुताबिक उन्हें साल 2022 के जनवरी में इस्तीफा देना था.

Google News पर हमें फॉलो करें और लेटेस्ट ख़बरों से अपडेट रहें

कौन हैं भूपेंद्र पटेल-

भूपेंद्र पटेल ने 2017 गुजरात विधानसभा चुनाव में अहमदाबाद जिले की घाटलोडिया सीट से 1 लाख 17 हजार वोट से जीत दर्ज की थी. उन्हें करीब 1 लाख 75 हजार वोट मिले थे. वहीं कांग्रेस उम्मीदवार शशिकांत पटेल को केवल 57,902 वोट मिले थे.

गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने बढ़ती उम्र का हवाला देते हुए साल 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ने से मना कर दिया जिसके बाद उनके कहने पर ही घाटलोडिया सीट से भूपेंद्र पटेल को टिकट दिया गया. 59 वर्षीय भूपेंद्र पटेल अहमदाबाद अर्बन डेवलपमेंट अथॉरिटी (AUDA) के अध्यक्ष और अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (AMC) की स्टैंडिंग कमेटी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

भाजपा ने 4 राज्यों में 4 बार बदले मुख्यमंत्री

भाजपा शासित राज्यों में विजय रुपाणी चौथे ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले कर्नाटक और उत्तराखंड के मुख्यमंत्रियों ने इस्तीफा दिया था.

कर्नाटक में येदियुरप्पा ने दिया था इस्तीफा

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने जुलाई में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उनकी स्थान पर लिंगायत समुदाय से आने वाले बसवराज सोमप्पा बोम्मई को राज्य का नया मुख्यमंत्री बनाया गया है. येदियुरप्पा ने साल 2019 में चौथी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी.

3 महीने के भीतर दो बार बदल चुके हैं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री

साल 2017 में चुनाव जीतकर भाजपा ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया लेकिन पांच साल पूरे होने से पहले ही उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा. उनके स्थान पर 10 मार्च साल 2021 को तीरथ सिंह रावत राज्य के नए मुख्यमंत्री बने लेकिन उन्हें भी तीन महीने के भीतर सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा. इस वक्त उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी हैं.

असम में सर्बानंद सोनोवाल की जगह सरमा को बनाया गया मुख्यमंत्री

साल 2016 में बीजेपी पहली बार असम की सत्ता में आई और सर्बानंद सोनोवाल को राज्य का सीएम बनाया गया. इसके बाद बीजेपी ने साल 2021 के विधानसभा चुनाव में सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर प्रस्तुत नहीं किया. चुनाव के नतीजे आने के बाद सर्बानंद सोनोवाल की जगह हिमंत बिस्वा सरमा का नाम मुख्यमंत्री के तौर पर घोषित किया गया. हालांकि 7 जुलाई को कैबिनेट विस्तार के समय सोनोवाल को केंद्रीय मंत्री बनाया गया.

केंद्र सरकार ने जारी की विश्वविद्यालयों की रैंकिंग, क्या है NIRF और कैसे जारी करती है रैंकिंग

गुजरात के CM विजय रुपाणी ने दिया इस्तीफा, हाल ही में भाजपा ने 4 राज्यों में 4 बार बदले मुख्यमंत्री