केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, मेडिकल कोर्सेज में OBC को 27% और EWS को 10% आरक्षण का मिलेगा लाभ

केंद्र सरकार ने मेडिकल एजुकेशन के क्षेत्र में अहम फैसला लिया है. ऑल इंडिया कोटे के तहत अंडरग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, मेडिकल और डेंटल शिक्षा में ओबीसी वर्ग के छात्रों को 27 प्रतिशत और EWS वाले छात्रों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा.

इस फैसले से मेडिकल और डेंटल शिक्षा में प्रवेश परीक्षा देने वाले 5550 छात्रों को इसका लाभ मिलेगा. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, ‘मंत्रालय ने शैक्षणिक वर्ष 2021-22 से यूजी और पीजी मेडिकल/डेंटल कोर्स (एमबीबीएस/एमडी/एमएस/डिप्लोमा/बीडीएस/एमडीएस) के लिए अखिल भारतीय कोटा योजना में ओबीसी के लिए 27% आरक्षण और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए 10% आरक्षण प्रदान करने का निर्णय लिया है.

इस निर्णय के बाद हर साल MBBS में 1500 छात्रों और स्नातकोत्तर में 2500 ओबीसी छात्रों को लाभ मिलेगा. वहीं EWS कैटेगरी से तालूक रखने वाले 550 छात्रों को MBBS और 1000 छात्रों को स्नातकोत्तर में लाभ होगा.

अखिल भारतीय कोटा (AIQ) योजना को साल 1986 में सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशो पर शुरू किया गया था. साल 2007 के पहले तक AIQ योजना में कोई आरक्षण का प्रावधान नहीं था. 2007 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा केंद्रीय शैक्षणिक संस्थान (प्रवेश परीक्षा में आरक्षण) अधिनिमय को प्रभावी बनाया गया. तब सभी ओबीसी को एक समान 27 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने की घोषणा की गई. इस नियम को सभी केंद्रीय शैक्षणिक संस्थानों पर लागू किया गया.

medical
Source- Google

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया ऐतिहासिक फैसला-

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, हमारी सरकार ने वर्तमान शैक्षणिक वर्ष से स्नातक और स्नातकोत्तर चिकित्सा/डेंटल कोर्स के लिए अखिल भारतीय कोटा योजना में ओबीसी के लिए 27% आरक्षण और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए 10% आरक्षण प्रदान करने का एक ऐतिहासिक निर्णय लिया है.