हर पांच साल में अफगानी करेंसी छापती है ब्रिटेन की यह कंपनी, जानिए अफगानी करेंसी के बारे में

तालिबान ने हाजी मोह्म्मद इदरीस को ‘द अफगानिस्तान बैंक’ का कार्यकारी नियुक्त किया है. जिसके बाद बैंकों की हालात और करेंसी की स्थिति को लेकर असमंजस की स्थिति बन हुई है. अफगानिस्तान में साल 1925 में देश की नई करेंसी की शुरुआत हुई थी. जिसे अफगानी करेंसी कहा जाता है.

साल 1939 में अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक ‘द अफगानिस्तान बैंक’ की स्थापना हुई. यह बैंक करेंसी को छापने और वितरण पर नियंत्रण रखने का काम करता है. इस बैंक का मुख्यालय काबुल में है. हालांकि इस बैंक की देशभर में 46 शाखाएं हैं. जब साल 1996 में अफगानिस्तान की सत्ता में तालिबान आया तो उन्होंने अफगानी करेंसी को जारी रखा था लेकिन उस वक्त अफगानी करेंसी का बुरी तरह अवमूल्यन हुआ था.

Afghani currency
Source- Da Afghanistan Bank

ब्रिटेन की कंपनी छापती है अफगानी करेंसी-

अफगानिस्तान में एक अफगानी करेंसी से लेकर 1000 अफगानी करेंसी तक चलती है. 1 अफगानी करेंसी नोट और सिक्के दोनों रूपों में उपलब्ध है. अफगानिस्तान की केंद्रीय बैंक ‘द अफगानिस्तान बैंक’ हर पांच साल पर नए नोट छपवाता है लेकिन ताज्जुब की बात यह है कि ये नोट अफगानिस्तान में छपते ही नहीं हैं.

अफगानी करेंसी ब्रिटेन में स्थिति बेसिंगस्टोक की करेंसी प्रिंटिंग प्रेस ‘दे ला रुए’ (De La Rue) में छापे जाते हैं. यह दुनिया की सबसे बड़ी करेंसी प्रिटिंग प्रेस है यहां तकरीबन 140 देशों की करेंसी छापी जाती है. 80 के दशक तक अफगानी करेंसी को रूस की एक कंपनी छापती थी लेकिन जब साल 2002 में अफगानिस्तान में हामिद करजई की नई लोकतांत्रिक सरकार सत्ता में आई तो करेंसी छापने का काम ब्रिटेन की ‘दे ला रुए’ (De La Rue) को दे दिया गया.

मुट्ठीभर तालिबान लड़ाकों से लाखों की अफगान फौज मुकाबला क्यों नहीं कर सकी

अफगानी करेंसी पर पड़ेगा असर-

‘दे ला रुए’ (De La Rue) नोटों पर सिक्योरिटी मार्क बहुत ही मजबूत रखती है जिससे की फर्जी नोट छापने की आशंका न के बराबर रहती है. अफगानी करेंसी 1, 5, 10, 50, 100, 500 और 1000 की मुद्रा (नोट) में उपलब्ध हैं.

Afghani currency
Source- Wikipedia

राजनीतिज्ञों का मानना है कि अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद इसका असर वहां के मुद्रा पर भी पड़ेगा. अफगानी करेंसी की मार्केट वैल्यू कम हो सकती है जिससे देश में महंगाई आने की प्रबल संभावना है. वर्तमान में 1 भारतीय रुपया 1.16 अफगानी करेंसी के बराबर है. दूसरे शब्दों में ऐसे कहा जा सकता है कि 100 भारतीय रुपया अफगानिस्तान के 116 अफगानी करेंसी के बराबर है. वहीं एक यूएस डॉलर 86 अफगानी करेंसी के बराबर है.

शरिया कानून क्या है और कौन-कौन से देश इस कानून को मान्यता देते हैं?