ऐसा है Mark Zuckerberg का आलीशान घर, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस असिस्टेंट Jarvis भी है मौजूद

दुनिया के टॉप अमीरों की लिस्ट में शुमार फेसबुक के संस्थापक Mark Zuckerberg चमक-धमक से दूर रहते हैं. वह ज्यादात्तर सादे कपड़ों में ही नजर आते हैं. जब भी आप Mark Zuckerberg के बारे में सोचते होंगे तो आपके मन में जरूर उनके घर को लेकर ख्याल आता होगा. ज्यादातर लोगों को लगता है कि Mark Zuckerberg एक आलीशान कोठी में रहते होंगे. उनके घर में काम करने वाले तमाम लोग होंगे, लेकिन ऐसा नहीं है.

Mark Zuckerberg का घर अमेरिका के कैलिफोर्निया के Palo Alto में स्थित है. ज्यादातर अरबपतियों की तुलना में जकरबर्ग के घर की कीमत कम है. इस घर को उन्होंने Prisiclla Chan से शादी करने से एक साल पहले साल 2011 में खरीदा था. यह घर 5,617 स्क्वायर फीट का है. अमेरिकी मैगजीन Architectural Digest (आर्किटेक्चरल डाइजेस्ट) के मुताबिक उन्होंने इस घर को 7 मिलियन डॉलर में खरीदा था.

इस घर में एक स्विमिंग पूल, ग्लास इन सन रूम, पांच बेडरूम और पांच बाथरूम है. इस शानदार घर में काफी बड़ा आउटडोर स्पेस है. इसमें एंटरटेनमेंट पवेलियिन, फायरप्लेस, Barbeque एरिया और एक स्पा सेंटर है. यह घर Menlo Park में स्थित फेसबुक के ऑफिस के पास है. मार्क जकरबर्ग 10 मिनट ड्राइव करके ऑफिस पहुंच सकते हैं.

घर के बाथरूम हिटेड फ्लोर और डीप शॉकिंग टब मार्बल से बना हुआ है. इस घर में ट्रेडिशनल फर्नीचर है. जो लोगों को काफी आकर्षित करता है. आउटडोर पर काफी स्पेस है. इसमें गार्डेनिंग के साथ वाटरपूल है. वहीं बैकयार्ड में वॉटरफॉल क्रेस्टेड पोंड है. इस जगह को किसी फंक्शन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

घर के मास्टर बाथरूम में हिटेड फ्लोर और शानदार मार्बल का यूज किया गया है. इस बाथरूम में डीप शॉकिंग टब भी है. इसके शानदार डिजाइन एक बेहतरीन स्पा का लुक देता है.

मार्क जकरबर्ग ने अपने इस घर में एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस असिस्टेंट भी रखा है. उन्होंने इसका नाम Jarvis रखा है. इसे हॉलीवुड अभिनेता Morgan Freeman की आवाज दी गई है. मार्क जकरबर्ग को रोज सुबह जगाने का काम Jarvis ही करता है. घर के गेट में पावरफुल इमेंजिंग और वॉयस सेंसिंग लगा है जो गेट पर आए मेहमानों को पहचान लेता है.

साल 2012 में Priscilla Chan से शादी करने के बाद मार्क जकरबर्ग ने घर के पास की प्रॉपर्टी भी खरीद ली थी. खबरों के मुताबिक उन्हें चार घर खरीदने के लिए 30 मिलियन डॉलर खर्च करना पड़ा था.

ब्रिटेन की इस कंपनी में छापी जाती है कई देशों की करेंसी