West Bengal : बीजेपी ने दिहाड़ी मजदूर की पत्नी को बनाया उम्मीदवार, खाते में केवल 6,335 रुपये

आगामी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने बांतरा स्थित सल्तोर सीट से चंदना बाउरी को अपना उम्मीदवार बनाया है. चंदना बाउरी के पति एक दिहाड़ी मजदूर हैं जो रोजाना केवल 400 रुपये ही कमा पाते हैं. बीजेपी उम्मीदवार चंदना ने हाल ही में अपना नामांकन करवाया, जिसमें उन्होंने अपनी संपति का ब्योरा दिया. जिसके अनुसार उनके बैंक खाते में 6335 रुपये और उनके पति के खाते में केवल 1561 रुपये हैं. इनकी कुल अचल संपत्ति 31,985 रुपये है. इसके अलावा उनके पास 3 बकरी, 3 गाय और एक झोपड़ी है. चंदना के पति सिर्फ आठवीं तक पढ़े हैं जबकि चंदना खुद 12वीं पास हैं.

Source- Google

चंदना के घर प्राथमिक सुविधाओं का अभाव है. उनके घर में ना ही टॉयलेट है और ना ही पीने के पानी के लिए नल की व्यवस्था. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार चंदना को शौच के लिए बाहर जाना पड़ता था. साल 2020 में 60,000 रुपये की प्रधानमंत्री आवास योजना की पहली किस्त मिलने पर चंदना ने दो पक्के कमरे बनाए.

चंदना जिले में बीजेपी की मेंबर भी हैं. वह गंगाजलघाटी ब्लॉक के केलई गांव में हर सुबह 8 बजे भगवा रंग की साड़ी पहन कर चुनाव प्रचार के लिए निकती हैं. इस दौरान वे अपने बेटे को भी साथ ले जाती हैं.

Source-Twitter

तृणमुल कांग्रेस पर लगाए आरोप-

चंदना ने तृणमुल कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि साल 2011 से ममता बनर्जी की सरकार बनने के बाद टीएमसी कार्यकर्ता उन्हें परेशान करते थे. टीएमसी ने कोई भी विकास का कार्य नहीं किया है. प्रधानमंत्री जो कल्याणकारी योजनाओं के लिए पैसा भेजते हैं. उस पैसे को टीएमसी अपने जेब में रख लेती है. शौचालय से लेकर घर की योजनाओं तक के लिए टीएमसी के कार्यकर्ताओं को पैसा देना पड़ता है.

अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित, निर्वाचन क्षेत्र सल्तोरा सीट से तृणमूल कांग्रेस के स्वपन बारुई ने पिछले दो बार से 10,000 से ज्यादा वोटों से चुनाव जीता था. लेकिन इस बार पार्टी ने नए उम्मीदवार संतोष कुमार मंडल को सल्तोरा सीट से मैदान में उतारा है.