क्या उपचुनाव में ममता बनर्जी को टक्कर दे पाएंगी भाजपा की प्रियंका टिबरेवाला

पश्चिम बंगाल में 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव में भवानीपुर सीट से भाजपा ने अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है. भाजपा ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ प्रियंका टिबरेवाल को मैदान में उतारा है.

प्रियंका टिबरेवाल कौन हैं

प्रियंका टिबरेवाल का जन्म 7 जुलाई साल 1981 में कोलकता में हुआ था उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई वेलैंड गॉल्डस्मिथ से की. साल 2007 में प्रियंका टिबरेवाल ने हाजरा लॉ कॉलेज से वकालत की डिग्री हासिल की. इसके बाद उन्होंने एमबीए की पढ़ाई करने थाईलैंड चली गईं.

प्रियंका टिबरेवाल पिछले साल अगस्त में पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता युवा मोर्चा की उपाध्यक्ष बनी. 41 वर्षीय प्रियंका सुप्रीम कोर्ट और कलकत्ता हाई कोर्ट में वकालत करती हैं. इसके अलावा वह भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की लीगल एडवाइज रह चुकी हैं.

साल 2014 में बीजेपी में हुई शामिल

प्रियंका टिबरेवाल ने साल 2014 में मोदी लहर के दौरान भाजपा में शामिल हुईं. उन्होंने भाजपा की तरफ से साल 2015 में वार्ड नंबर 58 से कोलकता नगर निगम का चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें टीएमसी उम्मीदवार स्वपन समदार से हार का सामना करना पड़ा. पिछले विधानसभा चुनाव में उन्हें भाजपा ने एटली सीट से मैदान में उतारा था. इस सीट से टीएमसी उम्मीदवार स्वर्ण कमल साहा ने तकरीबन 58,000 वोटों से उन्हें हराया था.

priyanka tibrewal
Source- Aajtak

कांग्रेस नहीं उतारेगी कैंडिडेट

कांग्रेस पार्टी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला लिया है. पश्चिम बंगाल चुनाव में कांग्रेस और लेफ्ट ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. राजनीतिज्ञों का मानना है कि टीएमसी भवानीपुर के अलावा समसेरगंज और जंगीपुर की सीटों पर भी जीत दर्ज करेगी.

ममता बनर्जी के लिए भवानीपुर है खास

साल 2011 में जब ममता बनर्जी ने पहली बार चुनाव जीतकर पश्चिम बंगाल की राजनीति में आईं, तब उन्होंने लेफ्ट का 34 साल पुराने किले को ध्वस्त कर दिया था. उस साल ममता बमर्जी ने भवानीपुर से ही उपचुनाव जीता था. इस सीट से ममता ने तकरीबन 54 हजार वोट से जीत दर्ज की थी. इसके बाद साल 2016 के विधानसभा चुनाव में भी ममता बनर्जी ने इस सीट से जीत दर्ज की लेकिन तब जीत का अंतर 54 हजार से घटकर 25 हजार हो गया.

श्रीकृष्ण जन्म स्थान के 10 किलोमीटर की दायरे में नहीं मिलेंगी शराब और मांस, योगी आदित्यनाथ का बड़ा फैसला