Take a fresh look at your lifestyle.

जानिये क्या होता है ऑनलाइन फ्रॉड और कैसे बचें इससे ?

जल्दी पैसा कमाने की चाहत कभी-कभी आपको मुसीबत में भी डाल सकती है. आपकी जल्दी और कम मेहनत में पैसा कमाने की चाह आपको कंगाल कर सकती है.

फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्क को भी अपने विज्ञापन के मॉडलों में से एक के रूप में पेमेंट पर क्लिक मॉडल को दिखाते हैं और इसी तरह के मॉडल पर काम करने वाली अन्य वेबसाइट भी आपको घर बैठे केवल क्लिक करने के बदले पैसे देने का ऑफर देती है. इसी घर बैठे कमाई के मायाजाल में फंस कर लोग अपनी कमाई से हाथ धो बैठते हैं. लेकिन ज्यादातर मामलों में ऐसी वेबसाइट फर्जी ही निकलती हैं जो शुरुआत में भले ही पैसा दे पाएं लेकिन समय बीतने के साथ इनका मॉडल फेल होता दिखाई देता है. इसलिये इन फर्जी चीजों से कैसे बचें ये यहां जाने.

ऑनलाइन फ्रॉड के लिए कंपनियां कैसे-कैसे शब्दों या ऑफर का इस्तेमाल करती हैं-

1- वेबसाइट को क्लिक करवाने के नाम पर घर बैठे पैसा देने का ऑफर.

2- ऐसी फर्जी कंपनियां बड़ी कंपनियों के नाम पर ईमेल के जरिये नौकरी का ऑफर देती हैं.

3- कलेक्टिव इनवेस्टमेंट स्कीम के नाम पर भारी पैसे रिटर्न का वादा.

4- इंश्योरेंस रेगुलेटरी अथॉरिटी (आईआरडीए) के नाम पर इंश्योरेंस पॉलिसी बेचना.

5- लॉटरी में बहुत सारा पैसा पाने के नाम पर ईमेल के जरिये बैंक अकाउंट, पैन नंबर आदि की जानकारी.

कैसे बचें ऑनलाइन फ्रॉड के धोखे से-

1- आपको सबसे पहले तो इसी बात से सावधान हो जाना चाहिए कि घर बैठे क्लिक करवाकर पैसे देने के बदले में अगर कोई आपके भारी रकम की मांग करता है. साफ तौर पर अगर क्लिक के बदले पैसे दिए जा रहे हैं तो उस कंपनी को आपसे पैसे की जरूरत क्यों होगी?

2- लॉटरी के नाम पर आपसे आपके बैंक खातों या कार्ड्स, पैन की डिटेल क्यों मांगी जा रही है? सिर्फ अकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड और खाते का प्रकार बताकर आपको पैसे ट्रांसफर हो सकते हैं.

3- कलेक्टिव स्कीमों के जरिए पैसा बनवाने वालों के पास अपने कारोबार के वैध होने का कोई सबूत नहीं होता है.

4- आईआरडीए कभी भी खुल कोई पॉलिसी बेचने या प्रमोशन के लिए कॉल नहीं कर सकता है.

Comments are closed.