Take a fresh look at your lifestyle.

Mussoorie: खूबसूरत वादियों के अलावा पहाड़ों की रानी का इतिहास भी है रोचक

उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है मसूरी

Mussoorie, उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है. उत्तराखंड के देहरादून शहर से करीब 33 किमी की दूरी पर स्थित मसूरी को पहाड़ों की रानी भी कहा जाता है. यहां विंटर सीजन के दौरान स्नो फॉल भी देखी जा सकती है. शिवालिक की पहाड़ियों में बसा यह शहर छोटा तो है लेकिन बेहद खूबसूरत है. मसूरी गंगोत्री का प्रवेश द्वार भी कहलाती है.

Azab Gazab Mussoorie
Azab Gazab Mussoorie

देहरादून से मसूरी का रास्ता पहाड़ियों को काटकर बनाया गया है, इसलिए इस पर चढ़ते समय कटावदार चाय बागानों और चावल की खेती देखने का अनुभव वहां जाकर ही लिया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: बेहद शक्तिशाली है विश्व की सबसे बड़ी तोप, 35 किमी तक कर सकती है वार

Azab Gazab Mussoorie
Azab Gazab Mussoorie

रोचक है मसूरी का इतिहास

मसूरी शहर की खूबसूरत वादियों का इतिहास भी काफी रोचक है. 1800 सदी में ब्रिटिश मिलिट्री अधिकारी ने अपने एक साथी के साथ इस जगह की खोज की थी. उन्होंने इसे छुट्टी बिताने के लिए सही जगह समझा और अपना डेरा जमा लिया था. यहां एक पौधा मंसूर बहुत मिलता है. इसकी वजह से ही इस जगह का नाम मसूरी पड़ा.

Azab Gazab Mussoorie

मालरोड- मसूरी में प्रवेश के लिए मालरोड से एंट्री करनी होती है. माल रोड पुराने जमाने के बाजारों की याद दिलाता है.

गन हिल- यह ट्रैकिंग के लिए परफेक्ट है. कहा जाता है, आजादी के पहले इस पहाड़ी के ऊपर रखी तोप से रोजाना दोपहर के वक्त गोली चलाई जाती थी, जिससे लोग अपनी घडि़यां इससे मिलाते थे, इसी वजह से इस स्थान का नाम गन हिल पड़ा.

Azab Gazab Mussoorie

यह मसूरी की दूसरी सबसे ऊंची चोटी भी है यहां से आप ट्रैकिंग का मजा भी ले सकते हैं. इस पहाड़ी से आप हिमालय में बसी और पर्वत श्रृंखला के दर्शनीय स्थलों का नजारा देख सकते हैं और वहां की सुंदरता का लुत्फ उठा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: सर्दियों में भी बॉडी को रखना है फिट, तो करें इंडोर एक्सरसाइज

कैमल बैक रोड- इस सड़क पर पैदल चलना या घुड़सवारी करना अच्छा लगता है. हिमालय में सूर्यास्त का दृश्य यहां से सुंदर दिखाई पड़ता है. कैमल रॉक एक बैठे हुए ऊंट के जैसे लगती है.

Azab Gazab Mussoorie

कैम्पटी फॉल- मसूरी से 15 किलोमीटर दूर 4500 फुट की ऊंचाई पर सबसे बड़ा और खूबसूरत झरना है, जो चारों ओर से ऊंचे पहाड़ों से घिरा है.

पहला तिब्बती स्कूल- यहां पहला तिब्बती स्कूल 1960 में खुला था. मसूरी में ही भारतीय प्रशासनिक सेवाओं के लिए तैयारी कराने का एकमात्र प्रशिक्षण केन्द्र लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी भी है.

Comments are closed.